बाजार दाम के 5 गुना अधिक दें मुआवजा; बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट, सरपंचों ने की मांग

    विरुल आकाजी (सं). नागपुर-मुंबई समृद्धि महामार्ग के समीप हाईस्पीड बुलेट ट्रेन चलाने का नियोजन किया जा रहा है. यह बुलेट ट्रेन वर्धा जिले से तीन गांवों के परिसर से जा रही है. इस संदर्भ में वर्धा जिले के तीस गांवों के सरपंचों को लेकर जिलाधिकारी के निर्देश पर जिप सभागृह में बैठक ली गई. उक्त समय सरपंचों ने बाजार दाम के पांच गुना अधिक जमीन का मुआवजा देने की मांग की. 

    पर्यावरण व रोजगार निर्मिति का मसला

    जिले के तीस गांवों से जाने वाली इस बुलेट ट्रेन को वर्धा जिले के वर्धा व पुलगांव यह दो स्टेशन दिए है. साथ ही इस प्रकल्प को लगने वाली जमीन शासन वर्ष 2015 के भूमि अधिग्रहण कानून के तहत खेती बाजार दाम के पांच गुना अधिक दाम दिए जाएंगे. साथ ही पर्यावरण व रोजगार निर्मिति का मुद्दा भी इस प्रकल्प में समावेशित है. 

    प्रभावित के परिवार से 1 को नौकरी दें 

    परिसर के उपस्थित सरपंचों ने खेती के लिए मार्ग, पांच गुना अधिक मुआवजा, खेत अधिग्रहित होने वाले परिवार के व्यक्तियों को बुलेट ट्रेन उपक्रम में नौकरी, बुलेट ट्रेन समीप खेत होने वाले किसानों को फसल नुकसान मुआवजे की मांग की. बैठक में विरुल परिसर से सरपंच एड. दुर्गाप्रसाद मेहरे, निजामपुर के सरपंच प्रवीण वैद्य, हुसनेपुर सरपंच रवि कुरसंगे, पिपंलगांव सरपंच सागर अडाऊ, श्याम नाले, विक्रांत नाले, चव्हाण उपस्थित थे.