शिंदे ने इलेक्ट्रिक कार की ली टेस्ट ड्राइव, नगर विकास मंत्री ने निर्माण कार्य की सराहना

  • इको फ्रेंडली बनेगा समृध्दि महामार्ग
  • मार्ग में 11.50 लाख पौधे लगाए जाएंगे 
  • 250 मेगावाट सोलर बिजली का उत्पादन 
  • विदर्भ के उद्योग-किसानों को मिलेगा बढ़ावा 

वर्धा. जिले से गुजर रहे बालासाहब ठाकरे समृद्धि महामार्ग का प्रथम चरण का निर्माण कार्य लगभग पूर्ण हो चुका है़ फलस्वरुप रविवार को राज्य के नगर विकास मंत्री एकनाथ शिंदे ने समृध्दि महामार्ग का निरीक्षण किया़  इस दौरान उन्होंने आर्वी टोल प्लाजा के समीप महामार्ग पर इलेक्ट्रिक कार चलाकर ट्रेस्ट ड्राइव लिया. उन्होंने कहा कि नागपुर-मुंबई समृद्धि महामार्ग का काम अत्यंत उत्कृष्ट दर्जे का किया गया है़ 120 किमी प्रति घंटा की गति से वाहन चलाने पर भी 60 से 70 की गति का एहसास होता है़ साढे ग्यारह लाख पौधे लगाकर इस महामार्ग को इको फ्रेंडली किया जा रहा है.

महामार्ग से क्षेत्र के किसानों का मदद मिलने के साथ ही उद्योग जगत को बढ़ावा मि मिलेगा. इस समय महाराष्ट्र राज्य सड़क विकास महामंडल के उपाध्यक्ष तथा प्रबंधकीय संचालक राधेश्याम मोपलवार, सहप्रबंधक संचालक अनिलकुमार गायकवाड, जिलाधिकारी प्रेरणा देशभ्रतार, मुख्य अभियंता सुधाकर मुरादे, अधीक्षक अभियंता अश्विनी घुगे, कार्यकारी अभियंता हेमंत जगताप, भूषण मालखंडारे, उपविभागीय अधिकारी हरिष धार्मीक, तहसीलदार चव्हाण आदि की उपस्थिति थी़. 

क्षेत्र में वनसंपदा का किया जाएगा संवर्धन 

शिंदे ने बताया कि वर्धा में समृद्धि महामार्ग का 58 किलोमीटर का काम पूर्ण हुआ है़  महामार्ग की लंबाई 58 किमी व चौड़ाई 120 मीटर है़  यह सीक्स लेन बनाया गया है़  इस पर करिब 2,762 करोड़ का खर्च हुआ है़  समृद्धि महामार्ग के लिए जिले के तीन तहसील की 782 हेक्टेयर जमिनी का अधिग्रहण किया गया है़  समृद्धि महामार्ग से लोग मुंबई व नागपुर इन महानगरों से जोड़े गए है़  जिले के सेलू, वर्धा व आर्वी तीन तहसील के 34 गांवों से यह मार्ग गुजरा है.  

महामार्ग पर 5 बड़े तथा 27 छोटे पुल है़  वहीं 9 उड़ान पुल का निर्माण किया गया है़  34 टनल भी बनाये गए है. राहगीरों के लिए 12 टनल निर्माण किये गए़  येलाकेली व विरुल में इंटरचेंजेस भी दिये गए़  महामार्ग से दौड़ने वाले वाहनों से वन्यजीव विचलित न हो इसलिए दो जगहों पर उन्नत मार्ग निर्माण किया गया है. ढाई सौ मेगावाट सोलर पर इलेक्ट्रिक भी जनरेट की जा रही है़  पूर्णतः पर्यावरण पूरक ऐसा यह महामार्ग है़  इस क्षेत्र में वनसंपदा का संवर्धन करने का काम शुरू है़  लगभग 76 अंडरपास दिये गए है़.

 

मई में महामार्ग का किया जाएगा उद्घाटन

नागपुर से शिर्डी इस प्रथम चरण का काम लगभग पूर्ण हो चुका है़ इस महामार्ग का उद्घाटन मई में करने का प्रयास है़ इस मार्ग से लोग केवल छह से सात घंटे में मुंबई पहुंचेंगे़ इससे समय, इंधन व पर्यावरण की बचत होगी़ महामार्ग पर कहीं पर भी टोल नहीं भरना पड़ेगा. वाहन जहां महामार्ग से बाहर निकलेगा, वहीं पर टोल देना होगा़  विदर्भ के उद्योगों को बढ़ावा मिलेगा. किसानों को उनके माल की ढुलाई के लिए आसानी होगी.

ईडी, सीबीआई से हमें कोई दिक्कत नहीं

महाविकास आघाड़ी की सरकार स्थापित हुई तब से ईडी, सीबीआई की जांच हमारें पीछे लगी है़  इससे आघाड़ी सरकार को कोई दिक्कत नहीं है़  मुख्यमंत्री ठाकरे के नेतृत्व में सरकार पांच वर्ष तक चलेगी़ कोविड, प्राकृतिक आपदा जैसे अनेक संकट आए़  किन्तु सरकार ने विकास कार्यों का रथ रूकने नहीं दिया.