Soybean price created history in Lasalgaon Market Committee
File Photo

    वर्धा. गत माह सोयाबीन के दाम 10,000 रुपए प्रति क्विंटल के आसपास थे. वहीं अब खेतों में सोयाबीन निकलना आरंभ होते ही दामों में तेजी गिरावट का दौर शुरू हो गया है. आने वाले दिनों में आवक बढ़ी तो गिरावट का दौर निरंतर शुरू रह सकता है, जिससे किसानों को बड़ा आर्थिक नुकसान उठना पड़ सकता है. मंगलवार को वर्धा मंडी में नये सोयाबीन को 5,757 रुपये प्रति क्विंटल दाम मिला.

    बारिश के कारण जिले की मंडियों में सोयाबीन की आवक काफी कम है. बारिश जाते ही सोयाबीन की आवक बढ़ने की उम्मीद है. फिलहाल हिंगनघाट व वर्धा बाजार मंडी में इस मौसम का सोयाबीन बिक्री के लिए आ रहा है. 

    गत माह मिला था 10,000 रु. का भाव 

    गत सप्ताह हिंगनघाट मंडी में नये सोयाबीन को 8,100 रुपए प्रति क्विंटल के करीब दाम मिले थे, लेकीन अब दामों में गिरावट देखने मिल रही है. एक माह के भीतर ही करीब 4,000 रुपए प्रति क्विटंल दाम निचे आये है. एक ओर निरंतर बारिश के कारण सोयाबीन की फसल पहले ही संकट में है. बारिश ऐसे ही चलती रही तो सोयाबीन की फल्लियां अंकुरने का खतरा बढ़ गया है. ऐसे में सोयाबीन के दाम लुढ़कने के कारण किसानों की चिंताएं बढ़ गई हैं. 

    सोयाबीन की नही हो रही कटाई

    जिले 50 प्रश के आसपास सोयाबीन कटाई पर आया है. परंतु बारिश के कारण खेत गिले होने के कारण किसान कटाई नही कर रहे हैं. बीते सप्ताह बारिश ने कुछ राहत देने के बाद किसानों की उम्मीद जागी थी. जो खेत सूख गये, वहां का सोयाबीन काटा गया है. परंतु गीले खेत से सोयाबीन सान काटना अभी संभव नहीं है. सोमवार की रात से पुन: बारिश ने दस्तक देने के कारण फसल ही खतरे में आ गई है. कटाई योग्य सोयाबीन की फल्लियां अंकुरने का खतरा बढ़ गया है.

    सोयाबीन में नमी अधिक

    व्यापारियों ने बताया कि बारिश के कारण सोयाबीन के दाने में नमी अधिक है. वर्तमान में सोयाबीन में नमी 22 प्रश से अधिक है. सोयाबीन सूखने पर प्रति क्विंटल 10 किलो के आसपास टूट आ सकती है, जिससे दामों में गिरावट है. बीते वर्ष की तुलना में यह दाम काफी अधिक होने की जानकारी दी.