American student who was participating in a hot-dog eating competition, died after choking
File Photo

    वर्धा. सेवाग्राम अस्पताल के मनोरोग विभाग से अचानक गायब हुए मरीज का अन्नासागर तालाब में शव बरामद होने से खलबली मच गई़  मृतक श्रीकांत नारायण चौधरी (31) बताया गया़  वह 26 सितंबर को सेवाग्राम अस्पताल से गायब हुआ था़  इस संबंध में पूछताछ करने गए परिजनों से अस्पताल के सुरक्षा रक्षकों ने असभ्य बर्ताव किए जाने की खबर है़  समीपस्थ खरांगणा (गोडे) निवासी मृतक श्रीकांत चौधरी को 25 सितंबर को सेवाग्राम अस्पताल के मनोरोग विभाग में भर्ती किया था.

    परंतु दूसरे दिन 26 सितंबर की सुबह 7 बजे के दौरान श्रीकांत वहां से अचानक नदारद हो गया़  यह बात अस्पताल प्रशासन के ध्यान में आते ही मरीज की परिसर में खोजबिन की गई, परंतु कहीं पर उसका पता नहीं चला़ परिजनों को इस संबंध में जानकारी मिलते ही वे अस्पताल प्रशासन से पूछताछ करने के लिए पहुंचे़ परंतु उपस्थित सुरक्षा रक्षकों ने उन्हें सहयोग करने की बजाए भलाबुरा कहा़  गालीगलौज करते हुए आपका पेशंट हैं तो आप ही देखे, यह कहकर वहां से खदेड़ दिया़  इससे आहत हुए परिजनों ने अस्पताल के डीन को लिखित शिकायत सौंपते हुए संबंधितों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की.  

    अस्पताल पर लगाया लापरवाही का आरोप

    मनोरोग विभाग में मनोरोगी मरीज रहते है़ं उन पर ध्यान देने के लिए कड़े सुरक्षा के बंदोबस्त होने चाहिए़ परंतु अस्पताल की लापरवाही से मरीज गायब हुआ़  उसकी जान को खतरा होने पर अस्पताल प्रशासन जिम्मेदार रहने की बात शिकायत में कही गई. अस्पताल के डीन ने सुरक्षा रक्षकों के बर्ताव पर खेद जताने की खबर है़  दूसरी ओर मरीज गायब होने के संबंध में सेवाग्राम थाने में मिसिंग भी दर्ज की गई थी़  इस बीच सोमवार की दोपहर श्रीकांत का शव सेवाग्राम मार्ग पर स्थित अन्नसागर तालाब में बरामद हो गया.  पुलिस ने घटनास्थल पर पहुंचकर तालाब से शव बाहर निकाला़  प्रकरण की जांच चल रही है. 

    गुस्साए ग्रामीण पहुंचे अस्पताल, कार्रवाई की मांग 

    श्रीकांत की मौत के लिए अस्पताल प्रशासन जिम्मेदार बताते हुए डेढ़ सौ से दो सौ ग्रामीण रात्रि में अस्पताल पहुंचे़  यहां असंतोष जताते हुए संबंधित सुरक्षा रक्षकों पर सख्त कार्रवाई की मांग की़ पोस्टमार्टम कक्ष व मनोरोग विभाग परिसर में हंगामा मचाया़  जब तक कार्रवाई नहीं की जाती तब तक शव नहीं स्वीकारने का निर्णय लिया गया़  पश्चात सेवाग्राम पुलिस अस्पताल में पहुंची़  देर रात तक अस्पताल परिसर में तनाव की स्थिति बनी हुई थी़  इसके बाद ग्रामीणों ने सेवाग्राम थाने में भी भीड़ की.