fraud
Representative Photo

    वर्धा. खेत के बोगस दस्तावेज के आधार पर परस्पर 13 लाख रुपए में बिक्री कर चाचा ने ही भतीजे के आंख में धूल झोंकी़ उक्त मामला समुद्रपुर में सामने आया़ प्रकरण में समुद्रपुर पुलिस ने मामला दर्ज कर आगे की जांच शुरू कर दी है. नागपुर के सेमिनरी हिल्स परिसर निवासी हरिष मनोहर वारवतकर (50) ने समुद्रपुर तहसील के परसोडी परिसर में 2009 को 3.14 हे़ आर.

    खेत 4 लाख रुपए में खरीदी किया था़ परंतु खेत की ओर उन्हें ध्यान देना असंभव था़ इसलिए हरिष ने अपने रिश्तेदार चाचा मानेवाडा निवासी चंद्रप्रकाश वारवतकर को खेत किराये से लगा देने के लिए दे दिया़ इससे मिलनेवाली राशि भी वहीं रखते थे़ परंतु चंद्रप्रकाश वारवतकर ने अपने ही भतीजे का विश्वासघात किया़ उसने खुद को खेत मालक बताकर फर्जी दस्तावेज तैयार किए.

    अपने फोटो लगाकर 16 जुलाई 2020 का खेत प्रशांत मेंढे को बेच दिया़ गांव की पटवारी ने खेत की रजिस्ट्री के संबंध में जांच पड़ताल की़ पश्चात वह नागपुर हरिष वारवतकर से मिलने पहुंचा, जहां यह धोखाधड़ी का मामला प्रकाश में आया़ प्रकरण में हरिष वारवतकर की शिकायत पर समुद्रपुर पुलिस ने चंद्रप्रकाश वारवतकर के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया़ आगे की जांच थानेदार चांदेवार के मार्गदर्शन में चल रही है.