मांगों को लेकर विजुक्टा ने दिया धरना, शिक्षाधिकारी कार्यालय का खींचा ध्यान

    पुलगांव (सं). कनिष्ठ महाविद्यालयीन शिक्षकों ने विविध लंबित मांगों को लेकर गुरुवार को शिक्षाधिकारी कार्यालय के समक्ष विजुक्टा के नेतृत्व में धरना दिया. पश्चात मांगों का ज्ञापन शिक्षाधिकारी डा. माधुरी सावरकर को सौंपा गया.

    उच्च माध्यमिक कक्षाओं के विद्यार्थी छात्रसंख्या के नियम बदलकर माध्यमिक की तरह करने, क्षमता के तहत अधिक के प्रवेश रद्द कर समीप के अनुदानित या चरण अनुदानित कनिष्ठ महाविद्यालय में शामिल करने, 1 नवंबर 2005 से पूर्व नियुक्ति अंशत: व बिना अनुदानित शिक्षकों पर पुराने पेंशन संबंधित अन्याय दूर करने, 10, 20, 30 वर्षों की सेवा के बाद मिलने वाली आश्वासित प्रगति योजना शिक्षकों को लागू करने व अन्य प्रलंबित मांगों को लेकर विजुक्टा ने धरना दिया.

    आंदोलन में विजुक्टा जिलाध्यक्ष नूरसिंग जाधव, सचिव जयंत ढगले, सुनील भोयर, नीलेश बोबडे, राजेश बोरकर, शैलेश कुपटेकर, राजेश लाखे, डाखोरे, हटवार, रणजीत धोटे, गौरव दुधबावरे, बोदिले, अरविंद राठौड़,  डा. एएम बेग, झोटिंग, जुमडे, पाखमोडे, गणेश राठौड़, प्रफुल कांबले, किनटकर सहभागी हुए.