आसेगांव सर्कल जिप सदस्य पद बीते अनेक दिनों से रिक्त, विविध विकास कार्यों को लगा ब्रेक

    आसेगांव. जिला परिषद व पंचायत समिति के चुनाव के दौरान आसेगांव सर्कल से राकांपा के जिलाध्यक्ष चंद्रकांत ठाकरे ने चुनाव में जीत हासिल कर जिले में रिकार्ड जीत दर्ज करने का वर्चस्व अपने नाम किया था. जिस के बाद जिला परिषद के अध्यक्ष पद पर सभी सदस्यों की सहमति से विराजमान हुए. लेकिन जिप चुनाव में आरक्षण को लेकर एक याचिका कोर्ट में दायर की गई. जिस का फैसला कोर्ट के माध्यम से सुनाया गया.

    इस में कुल जिले की 14 जिप सर्कलों से चुनाव जितने वाले सदस्यों की सदस्यता रद्द करने के आदेश कोर्ट के माध्यम से जारी किए गए. इस आदेश के जारी होते ही आसेगांव सर्कल से नामाप्रा ओबीसी के तहत चुनाव जितने वाले सदस्य समेत कुल जिले के 14 जिला परिषद सदस्यों की सदस्यता रद्द हुई है. इस में जिले की कमान संभालने वाले चंद्रकांत ठाकरे की भी सदस्यता रद्द हुई. जिस कारण अब आसेगांव सर्कल समेत क्षेत्र की जनता में काफी नाराजगी देखने को मिल रही है. 

    आसेगांव सर्कल की सामान्य जनता की नजर में चंद्रकांत ठाकरे अपने इस क्षेत्र के लोकप्रिय नेता है. लेकिन गत डेढ़ वर्ष पूर्व में हुए जिप के चुनाव में आसेगांव सर्कल के जिप सदस्य पद के लिए उक्त सीट नामाप्रा ओबीसी पुरुष के लिए आरक्षित हुई. जिस के बाद फिर से एक बार चंद्रकांत ठाकरे को आसेगांव सर्कल से चुनावी मैदान में किस्मत आजमाने का मौका मिला.

    इस सर्कल से दो जिप के चुनाव में एक तरफ जीत हासिल करने वाले जिले के पहले सदस्य चंद्रकांत ठाकरे बने. लेकिन जिस तरह से सुप्रीम कोर्ट का निर्णय ओबीसी आरक्षण को लेकर दायर याचिका के तहत आया उस निर्णय से सदस्यों की भले ही माथापच्ची हो रही हो लेकिन इस का सब्से ज्यादा साइड इफेक्ट आसेगांव सर्कल की सामान्य जनता पर नाराजगी के तहत पड़ा है. अब सदस्य पद सर्कल से रिक्त होने से सर्कल समेत संपूर्ण जिले में विकास कार्यो को ब्रेक लगने लगा है. 

    पांच माह से पद रिक्त विकास कार्यों पर लगा ब्रेक 

    आसेगांव सर्कल जिप सदस्य पद बीते पांच माह से रिक्त अवस्था में है. जिस कारण इस सर्कल के अंतर्गत आनेवाले विविध कार्यों पर ब्रेक लग जाने की जानकारी है. 

    उप चुनाव की अटकलें तेज 

    जिले में जिप सदस्य के उप चुनाव होने की अटकलें बढ़ गई है. इस के अलावा जनता में भी उप चुनाव को लेकर उत्सुकता बनी हुई है. इतना ही नहीं इच्छुक उम्मीदवार जो चुनाव लड़ने वाले है़  सभी जनता से संपर्क बनाए हुए है.