खड़ी उड़द फसल को वन्यप्राणियों ने किया नेस्तनाबूद, किसान का 90,000 रू. का नुकसान

    आसेगांव. किसान के घर आने वाली तथा आर्थिक बेपटरी के जीवन को संवारने वाली उड़द फसल को वन्यप्राणियों के झुंड ने नेस्तनाबूद किया है़  आसेगांव खेत शिवार में हुए इस घटना से किसान का लगभग 90,000 रुपए का नुकसान होने का बताया है. बुआई के लिए लगाएं गए 20,000 रू. के खर्च समेत की गई मेहनत पर भी पानी फेरने का दृष्य उड़द फसल को देखकर ही लगाया जा सकता हैं. 

    किसान अब्दुल अलीम (53) निवासी की दाभडी मार्ग स्थित दो एकड़ के खेत में खरीफ की जल्द आने वाली उड़द फसल की बुआई किसान द्वारा की गई थी. आशा और अपेक्षाओं के साथ फसल जल्द आएगी और परिवार के जीवनयापन हेतु उपज बेचकर कार्य किए, पेंडिंग रहने वाले कार्य किए जा पाएंगे, इस सोच को ध्यान में रखते हुए किसान ने 7 एकड़ खेती में से दो एकड़ की कृषि भूमि में उड़द की फसल का बुआई कार्य किया था.

    इस के अलावा अंकुरित फसल से लेकर फल्लियां लगने तक किसान ने खेत में बेतहाशा मेहनत भी की किंतु अभी हाल ही विगत आठ दिनों पूर्व में खेत में खड़ी व कुछ ही दिनों के भीतर किसान के घर आने वाली उड़द फसल की हरी फल्लियों को जंगली सुअरों के झुंड ने पूरी तरह खाते हुए नेस्तनाबूत कर दिया. जिस कारण किसान का 20,000 रुपए का लगाया हुआ बुआई खर्च व 15 क्विंटल उड़द उपज ऐसा कुल 1 लाख 10 हजार रुपए का आर्थिक नुकसान हुआ है.

    अब इस नुकसान की भरपाई देगा कौन? यह प्रश्न किसान के मन में उपस्थित होने लगा है. जबकि जिले के पालक मंत्रि द्वारा अभी हाल ही में अतिवृष्टि समेत वन्यप्राणियों द्वारा होने वाले फसल नुकसान सर्वेक्षण करने के निर्देश दिए गए है. अब देखना यह है कि आसेगांव में जिस किसान का नुकसान कर फसल को पूरी तरह से वन्य जीवों ने क्षति पहुंचाई है. उक्त किसान को आर्थिक स्वरूप नुकसान भरपाई मिल पाएगी.