Asegaon Washim

    • अधिकारी कर्मचारी अपडाउन कर सेवा देने को हुए मजबूर

    आसेगांव. आसेगांव सर्कल का प्रमुख गांव रहने से यहां पशु अस्पताल, महावितरण कार्यालय, पुलिस थाना समेत पोस्ट ऑफिस, पीएचसी जैसे मुख्य कार्यालय स्थापित है. इन सभी में सैंकड़ों कर्मचारी जनता की सेवा के लिए सेवारत है. लेकिन सबसे बड़ी बात तो यह है कि जनता की सेवा में कार्यरत इन सभी कर्मियों के लिए ही विशेष निवासस्थान न रहने से उक्त कर्मियों को ही असुरक्षित रहने का दायित्व निभाते हुए अपडाउन करना पड़ रहा है. 

    महावितरण के कर्मियों के निवासस्थानों की ओर ध्यान केंद्रित किया जाए तो प्रांगण में निर्माणाधीन सभी निवास वर्तमान में खंड़हर बने हुए है. इस के अलावा पुलिस थाना प्रांगण के निवास स्थान की भी यही यथा स्थिति बनी हुई है. इतना ही नहीं पशु चिकित्सालय में भी पशु अधिकारी का निवासस्थान पूरा खंड़हर बन गया है. इन सभी की हालत बीते अनेकों वर्षो से जर्जर बनी हुई है.

    प्रति वर्ष इन की हालत सुधरेगी, इन का मरम्मत कार्य किया जायेगा, यह अपेक्षा सभी को रहती है. लेकिन हर वर्ष उम्मीदों के साथ इन का कार्य नहीं हो पाने से नए वर्ष आगमन के कारण इस वर्ष के बीतने तक कार्य होंगे, ऐसा प्रतीत होने लगता है. अभी शुरू हुए नए वर्ष से इन सभी कार्यालयों के अधिकारी कर्मचारियों को इस वर्ष निवासस्थानों की तस्वीर मरम्मत के रूप में बदलने की आस है. 

    उल्लेखनीय है कि बीते 15 वर्ष पहले महावितरण पुलिस थाना पशु चिकित्सालय के प्रांगण में निर्माणाधीन निवासस्थानों में कर्मचारी परिवार समेत निवास करते थे. लेकिन स्कूल, कॉलेज की विशेष व्यवस्था न रहने से तथा पानी की समस्या कायम रहने के कारणों को ध्यान में रखते हुए तत्कालीन कर्मचारियों ने एक एक कर शहरों में रहकर सेवा देने का कार्य किया.

    जिस वजह से स्थानीय प्रांगणों के निवासस्थान खंड़हर होने की भेंट चढ़ते गए और अब पूरी तरह से बेहद खराब वाली स्थिति में बने हुए दिखाई देने लगे है. लेकिन सबसे बड़ी चौंकाने वाली बात तो यह है कि तब से लेकर अब तक निवासस्थानों को मरम्मत करने का कोई दायित्व भी निभाया नहीं गया. सरकार कर्मचारियों की सुविधा को लेकर कितनी एक्टिव है, इस बात की गवाही निवासस्थानों की हालत के रूप में सामने आने लगी है. लेकिन हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी खंड़हर निवासस्थानों की सूरत बदलेगी, ऐसी अपेक्षा सभी को है.