We have a horoscope of 120 party leaders sanjay raut

  • पल्लू के पीछे छुप कर वार पड़ेगा भारी
  • ईडी का चक्कर लगाते रहेंगे बीजेपी के नेता

मुंबई. पत्नी को ईडी (ED) का नोटिस मिलने से नाराज शिवसेना नेता और सांसद संजय राउत (Shiv Sena leader and MP Sanjay Raut) ने  केंद्र सरकार (central government) और  भाजपा (BJP) नेताओं को लताड़ा है। उन्होंने कहा कि मेरे पास भाजपा के 120 नेताओं की कुंडली है। खोल दूंगा तो उन्हें देश में रहना मुश्किल हो जाएगा। राउत ने चेतावनी देते हुए कहा कि राजनीति में आमने-सामने की लड़ाई होनी चाहिए। पल्लू के पीछे छुप कर वार केंद्र में सत्तारूढ़ भाजपा को भारी पड़ेगा।

ईडी की नोटिस मिलने के बाद राउत ने सोमवार  को पत्रकार परिषद बुला कर भाजपा और केंद्र सरकार पर चौतरफा हमला किया। उन्होंने कहा कि ईडी केंद्र सरकार के इशारे पर काम कर रही है। ईडी भाजपा की पोपट बन गयी है, लेकिन सरकारी संस्था होने की वजह से हमारे मन में उसके लिए सम्मान है। हम कानून का पालन करेंगे। पिछले डेढ़ माह से ईडी मुझसे पत्र व्यवहार कर रही है। उसे कुछ जानकारी और कागज पत्र चाहिए था। जिसे हमने समय-समय पर उपलब्ध कराया है, लेकिन कभी शंका व्यक्त नहीं की गयी। भाजपा के बंदर कल से ही उछल -कूद कर रहे हैं। हमारी जानकारी के मुताबिक, बाहरी व्यक्तियों को इस कार्यालय में प्रवेश नहीं मिलता है, लेकिन 3 माह से भाजपा के लोग ईडी कार्यालय का चक्कर क्यों लगा रहे थे?। ईडी कार्यालय भाजपा का कार्यालय बन गया है। भाजपा के 3 नेता वहां से कागज पत्र निकालते  हैं और उस जानकारी को लीक करते हैं।  

राजनीतिक षडयंत्र 

शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि यह राजनीतिक षडयंत्र है। 10 साल पुराना मामला निकाला है। हम मध्यम वर्ग के लोग है। हमारी पत्नी शिक्षिका हैं, 50 लाख का कर्ज लिया था। राज्यसभा के हलफनामे में इसका उल्लेख है। आयकर रिटर्न में भी यह दिखाया गया है। यह छिपाई हुई बात नहीं है। इससे ईडी और बीजेपी को क्या दिक्कत है। 

की गयी थी डराने की कोशिश 

राउत ने कहा कि मुझे डराने की कोशिश की गयी थी। हमें शिवसेना और एनसीपी के 22 विधायकों की सूची दिखाई गई थी। मुझसे कहा गया था कि अगर मैंने इस सरकार की मदद की तो धीरे-धीरे इन सभी के ऊपर ईडी या दूसरी एजेंसी कार्रवाई करेंगी। इसमें सबसे पहला नाम प्रताप सरनाईक का था। बीजेपी वाले पिछले एक साल से मिलकर यह समझाने की कोशिश कर रहे हैं कि तुम इस सरकार को बचाने की कोशिश मत करो। हम इसे गिराना चाहते हैं, लेकिन किसी भी कोशिश का असर हमारे ऊपर नहीं हुआ।

गलत नहीं किया है तो डरने की जरुरत नहीं : फडणवीस 

उधर, शिवसेना नेता संजय राउत की पत्नी को ईडी का नोटिस मिलने के सवाल पर पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि मैं ईडी का प्रवक्ता नहीं हूं, यदि किसी ने कुछ गलत नहीं किया है तो उसे डरने की भी जरुरत नहीं है। पूर्व मुख्यमंत्री फडणवीस ने कहा कि ईडी का सबसे अधिक दुरुपयोग कांग्रेस के कार्यकाल में हुआ इस लिए उन्हें, उनका कार्यकाल याद आ रहा है और भाजपा पर आरोप लगाया जा रहा है। हमने बिल्डरों के निर्माण घोटाले को उजागर किया है। सरकार से कार्रवाई की मांग की गयी। अभी तक कुछ नहीं हुआ। इस मामले में हम अदालत में जाने वाले हैं, लेकिन ईडी जांच को लेकर कांग्रेस सहित अन्य लोगों की तरफ से भाजपा पर आरोप लगाया जा रहा है, जो हास्यापद है। फडणवीस ने  महाविकास आघाड़ी सरकार पर किसानों के साथ वादाखिलाफी का आरोप लगाया.उन्होंने कहा कि सरकार किसानों को फंसाने का काम करती आ रही और हम राज्य का दौरा। निसर्ग तूफान के लिए घोषित नुकसान भरपाई भी अभी तक नहीं मिल पायी है।