PM Modi Yavatmal Meeting

Loading

उमरखेड़. प्रधानमंत्री मोदी के सभा को जाने के लिए यवतमाल में ज्यादा से ज्यादा भीड बनाने के लिए तहसील प्रशासन ने कमर कसी थी. लेकिन गांव देहात में गए वाहनों को स्थानीय नागरिकों के आक्रोश का सामना करना पडा. इस वजह से सभा में शामील होने से इन्कार देने से एस टी महामंडल के वाहन आयोजकों को वापस लौटना  पडा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बुधवार 28 फरवरी को यवतमाल में सभा का आयोजन किया गया था. जिसके चलते तहसील कार्यालय परिसर में राज्य के विभिन्न आगर की बस परिसर में मंगलवार 27 फरवरी से जमा होने लगी थी. इस बसों में स्वय सहायता समूह के महिला, लाभार्थी किसानों को किसी भी परिस्थिति में सभा में शामील करने के आदेश जिला प्रशासन की ओर से तहसील प्रशासन को दिया गया था. लेकिन यह वाहन बुधवार 28 फरवरी की सुबह नियोजित गावों में गई तभी गांव के नागरिको ने सभा में शामील होने की अपील की तब प्रधानमंत्री के पुराने आवश्वासन की याद प्रशासन को नागरिकों ने दिलायी.

इस वजह से ऐसे फर्जी आश्वासन को सुनने के लिए हम शामील नही होगे ऐसा सवाल उपस्थित किया गया.  साथ ही वाहनों को वापीस लेकर जाने के लिए कहा गया. साथ ही हमारे गांव की महिलाए अपने वाहनों में  सभा के लिए नही आयेगी, साथ ही फर्जी आवश्वासन की सभा में शामील नही होने से इन्कार किया. जिसके चलते तहसील के टाकली, वाडी, देवसरी, समेत 9 गावों के नागरिकों ने सभा में जाने के लिए इन्कार किया. इस वजह से  उमरखेड तहसील में मोदी लाट सीमट गई.