24 घंटे बाद निकाला दुर्घटनाग्रस्त बस ड्राइवर का शव

    • बाढ में फंसी क्षतिग्रस्त बस को बाहर निकाला

    यवतमाल.उमरखेड के निकट दहागांव के पास नाले के बाढ में बही एसटी बस के चालक का शव दुर्घटना के 24 घंटों के बाद बाहर निकाला गया.लगातार खोज अभियान चलाते हुए प्रशासन के आपदा प्रबंधन राहत दस्ते ने जेसीबी मशिन की सहायता से बाढ में फंसी रापनि की एसटी बस को भी बाहर निकाल लिया.

    इस दुर्घटना में एसटी बस बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गयी.उल्लेखनिय है की कल 28 सितंबर को नागपुर डिपो की बस क्रमांक एम एच- 14 बी टी-5018 नाले के बाढ में बहकर दुर्घटनाग्रस्त हो चुकी थी, इसमें बस कंडक्टर, चालक और 2 यात्रीयों की मौत हो गयी थी.जबकी बाढ के पानी में फंसी बस में 3 यात्रीयों को बचावदस्ते ने सुरक्षीत बाहर निकाला था.इस घटना के बाद बसचालक सुरेश रंगप्पा सुरेवार निवासी नागपूर का शव बस में ही फंसा हुआ था.

    तहसील प्रशासन का आपदा प्रबंधन दस्ता,रापनि के अधिकारी,कर्मचारी बसचालक का शव और बाढ में फंसी हुई बस को बाहर निकालने में जुटे हुए थे.कडे परिश्रम के बाद आज 29 सितंबर की सुबह एसटी बस चालक सुरावार का शव क्षतिग्रस्त बस से बाहर निकाला गया, इस दौरान जेसीबी मशिन की सहायता से बस को भी नाले से बाहर निकाल लिया गया. 

    बता दें की नागपुर डिपो की नांदेड- नागपुर बस के चालक सुरावार ने नाले में आयी नाले में आयी बाढ को नजरअंदाज कर पुल से बस गुजार दी थी,जिससे यह बस बाढ में बहकर दुर्घटनागस्त हो गयी .इस हादसे में बस में सवार कुल 4 यात्रीयों में शेख सलीम उर्फ बाबू शेख इब्राहीम 50 निवासी वारा मुल निवासी हैद्राबाद,इंदल रामप्रसाद महिंद्रे 35 निवासी कारोल तहसील पुसद और नागपुर डिपो के बस कंडक्टर भीमराव लक्ष्मण नागरिकर निवासी नागपुर की मौत हो गयी.

    जबकी बस में फंसे 2 यात्री शरद नामदेव फुलमाली 27 निवासी करोल तहसील पुसद तथा आदिलाबाद निवासी शिक्षक सुब्रमण्यम सूर्यनारायण तोकला 48 को क्षेत्र के युवकों की सहायता से सुरक्षीत तौर पर बाहर निकालने में सफलता मिली थी.जबकी बसचालक सुरावार की बाढ में फंसी बस में ही पानी में डुबकर मौत हो गयी थी, उसके शव को आज बाहर निकालकर पंचनामा कर उत्तरीय जांच के लिए रवाना कीया गया.जिलाधिकारी अमोल येडगे के मार्गदर्शन में उमरखेड तहसीलदार आनंद देऊलगांवकर, रापनि के अधिकारी,तथा आपदा प्रबंधन की टिम और उमरखेड पुलिस ने बस दुर्घटना के बाद बचावकार्य हेतु प्रयास कीया.

    युवकों ने दिखाया आपदा में साहस

    उल्लेखनिय है की नाले में आयी बाढ के दौरान वहां पर अनेक युवक मौजुद थे,इसी समय बसचालक ने बस पुल की ओर बढा देने से प्रत्यक्षदीर्श युवक दुर्घटना के समय चिखपुकार कर रहे थे, इसी दौरान बस फिसलकर नाले में बह गयी, तभी वहां पर मौजुद वागद गांव निवासी युवक अविनाश राठोड ने बाढ में दुर्घटनाग्रस्त बस की ओर बाढ के बावजुद मदद के लिए दौड लगा दी.नाले में कुदकर उसने बस में सवार यात्री आदिलाबाद निवासी सुब्रमण्यम शर्मा को बाहर निकाला.

    इसी दौरान उमरखेड के संदिप ठाकरे, पांडुरंग शिंदे, शाम नरवाडे, अनिल ठाकरे, मारोती चिंचे, गणेश ठाकरे,डा.अजय नरवाडे, धनंजय चोरघडे, रवि कवले इन युवकों ने बाढ के तेज बहाव के बावजुद पानी में तैरकर बस में फंसे यात्रीयों को बचाने का प्रयास कीया, इस दौरान युवकों की मदद से बस से निकलकर बाढ के पानी में पेड पर बैठे दुसरे यात्री शरद नामदेव फुलमाली नामक यात्री को भी सुरक्षीत बचाया गया.युवकों ने अपनी जान की परवाह न करते हुए मदद करने से उनके साहस की भी जिले में प्रशंसा हो रही है.