डेंगू के प्रकोप के उपायों की आवश्यकता

    यवतमाल. जिले में पिछले कुछ दिनों से लगातार हो रही बारिश के कारण जगह-जगह पानी जमा हो गया है. नतीजा यह है कि शहर समेत ग्रामीण अंचलों में तरह-तरह की बीमारियां बढ़ रही हैं. शहर में कई सालों से खुले भूखंड हैं वहां पानी जमा हो रहा है. इन खुले भूखंडों से पानी निकालने के लिए नागरिकों ने नगर निगम प्रशासन को बार-बार ज्ञापन दिया.

    हालांकि नगर निगम प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने अभी तक इस खुले भूखंड पर जमा पानी को नहीं हटाया है. जिससे बारिश के पानी जमा रहने से मच्छरों की संख्या बढने से डेंगू जैसी बिमारी ने दस्तक दी है.

    वर्तमान में शहर डेंगू जैसी जानलेवा बीमारी से जूझ रहा है. नागरिकों को भी कोरोना महामारी का सामना करना पड़ा. शहरवासी अब और भी गंभीर बीमारी डेंगू का सामना कर रहे हैं. स्थानीय प्रशासन और जनप्रतिनिधि, हालांकि, उपायों की अनदेखी कर रहे हैं और संदिग्ध डेंगू रोगियों की संख्या बढ़ रही है.

    वहीं दूसरी ओर यह सवाल भी खड़ा हो गया है कि क्या निजी अस्पताल अपने आंकड़े उपलब्ध नहीं करा पा रहे हैं. मरीजों की संख्या में दिन प्रतिदिन तेजी से इजाफा हो रहा है. इसलिए स्वास्थ्य विभाग को इस भयानक बीमारी के खिलाफ तत्काल कदम उठाकर उपाययोजना करनी चाहिए ताकि नागरिकों को अपनी जान न गंवानी पड़े और साथ ही शहर में खुले भूखंडों पर कई वर्षों से रुका हुआ पानी भी तुरंत हटाया जाए.