ईसापुर बांध पहुंचे जिलाधिकारी अमोल येडगे, बांध का किया निरीक्षण

    शेंबालपिंपरी. जुलाई माह में बारिश ने हाहाकार मचाने के साथ ही जोरदार अतिवृष्टी हुई.पुरे महाराष्ट्र के साथ ही इस परिसर में भी अतिवृष्टी ने काफी नुकसान पहूंचाया. शेंबालपिंपरी परिसर के ईसापुर बांध ईलाके में भारी बारिश हुई.

    अतिवृष्टी के कारण पैनगंगा नदी में उफान आने से नदी तट के खेती पानी में घीर जाने से किसानों का भारी नुकसान हुआ.खेतीहर जमिन बाढ और अतिवृष्टी में बहने के अलावा इस परिसर के रास्तों की छलनी हो गयी.इसके अलावा भारी बारिश और बाढ के कारण ईलाके का संपर्क अन्य ठिकानों से टूट चुका था.

    इसी बीच ईसापुर बांध महाराष्ट्र का मशहुर बांध है जो 90 फिसद से अधिक भरने पर दरवाजे खोलकर पानी छोडा जाता है, बिती बार हुई अतिवृष्टी में बाढग्रस्त ईलाकों में विधायक, जनप्रतिनिधीयों ने भेंट दी थी, इसके बाद प्रशासनिक तौर पर जायजा लेने जिले के जिलाधिकारी अमोल येडगे, जिला पुलिस अधिक्षक डा.दिलीप भुजबल पाटील ने ईसापुर बांध पहूंचकर हालात का जायजा लिया.

    इस समय उनके साथ पुसद के उपविभागीय अधिकारी व्यंकट राठोड, तहसील कृषी उपविभागीय अधिकारी प्रशांत नाईक,तहसील दंडाधिकारी राजेश चव्हाण,नायब तहसीलदार कदम, आपूर्ती निरीक्षक व्यंकटेश राऊलोड,खंडाला थाने के थानेदार शिंगेपल्लू,ग्रामपंचायत ईसापुर के ग्राम विस्तार अधिकारी जी.जी. मोरे,पटवारी गावंडे,तहसील.सहायक परसराम थोरात मौजुद थे.

    इस सम यअधिकारीयों ने ईसापुर बांध परिसर का जायजा लिया.इस दौरान गांव के सरपंच कैलास यशवंतराव नाईक पुर्व सभापती आनंदराव नाईक जी.के.थोरात,शेख मोईन भाई,भास्करराव बैस ने शेंबालपिंपरी से ईसापुर रास्ता निर्माण करने और किसानों को नुकसान मुआवजा देने के संबंध में अधिकारीयों को ज्ञापन सौंपा.जबकी जिप.प्राथमिक उर्दूँ शाला और जिप.हायसकुल पैनगंगा नगर में शिक्षक नियुक्त करने की मांग सरपंच कैलासराव नाईक,सामाजिक कार्यकर्ते शेख हाशम भाई अमजद खान (इजारदार) ने जिलाधिकारी से की इस समय मौजुद किसान संदीपराव नाईक,प्रकाश बैस ज्योतिबा थोरात,ग्रामपंचायत सदस्य नाईक पिंटू मोरे,प्रकाश ढोणे ने शेंबालपिंपरी  के शेतकरी  संघर्ष  समिती के जैनुल सिद्दीकी,रामकृष्ण चेंदेल,दिलीपराव देशमुख की अगुआई में जिलाधिकारी को किसानों की समस्याएं बताते हुए उनके फसल नुकसान को देखते हुए बिनाशर्त मदद देने की मांग की,इस समय जिलाधिकारी  येडगे न किसानों की समस्याएं हल करने के संदर्भ में अधिकारीयों को सुचना देकर नुकसान पंचनामा कारवाई तात्काल करने के निर्देश दिए.