नवभारत की खबर का असर, स्वास्थ्य विभाग अलर्ट, निजी डॉक्टर लैब धारकों को दिये निर्देश

    •   मेडीकल धारकों की अनुपस्थिति

    मारेगांव. तहसिल कार्यालय में स्वास्थ्य विभाग ने आनन फानन में शुक्रवार को 17  सिंतबर को एक बैठक आयोजित कर शहर के निजी डॉक्टर, लैब धारक व  मेडिकल चालको को इमरजंसी सेवा तथा लैब धारकों की मरीजो द्वारा की जाने वाली आर्थिक लूट को रोकने हेतु स्वास्थ विभाग ने कड़े निर्देश दिए है. लेकिन इस बैठक् में मेडीकल धारकों ने अनुपस्थिती दिखाई.

    डेंगू सदृश बीमारी के साथ साथ सर्दी खांसी बुखार के अधिकतम मरीज पाये जा रहे है. इसमें अधिकत्तर बालको का समावेश है.  मारेगांव ग्रामीण अस्पताल में सुविधाओं का अभाव होने कारन यह मरीज शहर के निजी अस्पतालों में उपचार के लिए दाखिल हो रहे है. लेकिन मरीजों के मजबुरी का फायदा उठाते हूए निजी लैब धारकों द्वारा मरीजो से मनमानी रकम लेने की बात अनेक मरीजो द्वारा कही जाने की बात नवभारत ने प्रकाशित की थी.

    इसी बात को गंभीरता से लेते हूए शुक्रवार को स्वास्थ्य विभाग ने तहसिल कार्यालय में एक बैठक आयोजित कर सभी निजी डॉक्टर, लैब धारक तथा मेडिकल चालको को निर्देश जारी किए गए, निजी डॉक्टरों एंव मेडिकल धारकों से स्वास्थ विभाग के स्वाथ्य अधिकारी अर्चना देठे ने कहा मध्ये रात्रि में मरीजो को इमरजंसी सेवा देना होगा उसी तरह लैब धारकों से भी कहा गया की मरीजो की टेस्ट कम दरो में की जाए.

    नगर पंचायत, ग्रामपंचयत को स्वास्थ विभाग ने आदेश दिए है कि, शहर एंव ग्रामीण क्षेत्रो की नालियों की नियमित साफ सफाई का ध्यान रखे साथ ही फॉगिंग मशीन से रोजाना फॉगिंग की जाये इस समय शहर के निजी डॉक्टर लैब धारक  तहसिल  स्वास्थ अधिकारी अर्चना देठे नायब तहसिलदार दिगाम्बर गोहकार उपस्थित थे.