Yavatmal News: अपात्र किसानों से 2 करोड़ की सम्मान निधि वापस, 15,000 संदिग्धों की संशोधित रिपोर्ट

Loading

यवतमाल. जैसे ही केंद्र सरकार ने किसान सम्मान निधि योजना के माध्यम से आपदाओं के दौरान वित्तीय सहायता के रूप में 6,000 रुपये प्रति वर्ष के फंड की घोषणा की, आयकर भरने वाले धनी किसानों ने इस सूची में अपना नाम जोड़ लिया. ऐसी सूची का पंचनामा किया गया. इसमें से दो करोड़ रुपये किसानों से वसूले गए हैं. जिले में 15 हजार किसानों के नाम की सूची पर संदेह जताया गया. इस सूची की एक अद्यतन रिपोर्ट सिस्टम को प्रस्तुत की गई है. लेकिन अभी तक अद्यतन डेटा प्राप्त नहीं हुआ है.

अपात्र किसानों को स्वप्रेरणा से प्राप्त सहायता राशि लौटानी होगी. यदि यह रकम नहीं लौटाई गई तो यह किसानों के सातबारह पर कर्ज के रूप में बोझा चढाकर वसूल की जाएगी. इसके चलते किसानों ने ऐसी धनराशि वापस करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है. इसमें से दो करोड़ की धनराशि सरकारी तंत्र में पहुंचा दी गई है. इससे राशि वापस नहीं करने पर अन्य किसानों को गंभीर परिणाम भुगतना पड़ेगा. जिन किसानों को नोटिस मिला, उन्होंने इसे नजरअंदाज कर दिया.

प्रधानमंत्री किसान योजना में जिले के तीन लाख किसानों के लिए प्रधानमंत्री शेतकरी सम्मान योजना चलाई जा रही है. इसमें दो लाख 95 हजार किसान पात्र हुए हैं. इन किसानों को मदद देने की योजना बनाई गई है. जिले के कुल पात्र किसानों में से 5 हजार 544 किसानों ने ईकेवाईसी प्रक्रिया पूरी नहीं की है. इस कारण इन किसानों के खाते में पैसा ट्रांसफर नहीं हो सका है. उन्हें प्रोसेस करना होगा. शुरुआत में सरकारी तंत्र को 15 हजार किसानों से आठ करोड़ रुपये वसूलने थे. इसके बाद दोबारा सर्वे कर अपात्र किसानों का नाम जोड़ा गया. इससे वसूली राशि कम हो गई. यह रकम कितनी है, इसके बारे में कोई स्पष्टता नहीं है.

किस तहसील में कितने लाभार्थी?

आर्णी  19,076
पुसद  31,005
घाटंजी  18,902
रालेगांव  16,366
वणी  18,207
मारेगांव  13,226
केलापूर  16,136
झरी जामणी  12,121
नेर  18,170
यवतमाल  15,257
दारव्हा  23,632
कलंब  13,538
महागांव  24,579
उमरखेड  26,682
दिग्रस 
15,399
बाभुलगांव 
13,404