कक्षा 11 वीं परीक्षा का पेंच सुलझाएं, सैंकडों छात्र प्रवेश से वंचित

    • शहर व जिला कांग्रेस ने निवासी उपजिलाधिकारी को दिया निवेदन

    यवतमाल. कक्षा दसवीं की परीक्षा के नतीजे घोषित हो चुके है. परीक्षा उत्तीर्ण कर चुके विद्यार्थियों की कक्षा 11 वीं की प्रवेश परीक्षा की समस्या अब भी सुलझ नहीं पायी है. जिसके चलते छात्रों को अपने मनमुताबिक कॉलेज में प्रवेश नहीं मिल पा रहा है. जिससे छात्र और अभिभावक भी चिंता में डूबे हुए है.

    इसीलिए प्रवेश परीक्षा का पेंच जल्द से जल्द सुलझाने की मांग को लेकर शहर व जिला कांग्रेस कमिटी की ओर से निवासी जिलाधिकारी ललितकुमार वरहाडे को निवेदन दिया गया. यवतमाल जिले में कक्षा दसवीं उत्तीर्ण करने के बाद 11 वीं में प्रवेश लेने के इच्छुक छोत्रों को प्रवेश कब मिलेगा. इसका इंतजार बना हुआ है. इस वर्ष बडी संख्या में कक्षा दसवीं में छात्र उत्तीर्ण हुए. इस हालात में छात्रों को अपने पसंदीदा कला, वाणिज्य और विज्ञान महाविद्यालय के अलावा आईटीआई में प्रवेश मिलने की उम्मीद रहती है.

    इसी दृष्टी से अब छात्रों के उत्तीर्ण होने की संख्या को देखते हुए प्रवेश क्षमता बढाने की जरूरत है. लेकिन अनेक अडचणें आने से अनेक जगहों पर छात्रों को आज भी प्रवेश पाने के लिए महाविद्यालयों के चक्कर काटने पड रहे है. जब तक अपने पाल्यों को कक्षा 11 वीं में एडमिशन नहीं मिलता तब तक संतोष कैसे मान यह सवाल भी पालकों के मन में उठ रहा है.

    इस पूरे मामले की दखल तत्काल सरकार ने लेनी चाहिए और कक्षा 11 वीं प्रवेश प्रक्रिया के पेंच को सुलझाना चाहिए. निवासी उपजिलाधिकारी को निवेदन देते समय चंद्रशेखर चौधरी, जावेद अन्सारी, उषाताई दिवटे, बबलू  देशमुख, पल्लवी रामटेके, विकी राऊत, दत्ताभाऊ हाडके, राजीक पटेल, मोहसीन खान, निशांत मानकर, संघपाल बारसे, अंजू चिलोरकर, प्रियंका बिडकर, शीला इंगोले, डॉ. संतोष तेलगोटे, राहुल वानखडे आदि उपस्थित थे.