यवतमाल में दीनदयाल सेवा प्रतिष्ठान का कार्य अंत्योदय की ओर बढ़नेवाला- राज्यपाल डॉ. भगत सिंह कोश्यारी

     यवतमाल: पं. दीनदयाल उपाध्याय का व्यक्तित्व बहुत ही सरल था. दीनदयालजी, जो हिंदी और अंग्रेजी में पारंगत हैं, कठिन विषयों को सरल बनाने में माहिर थे. अर्थशास्त्र जैसे जटिल विषयों को भी दैनिक उदाहरण देकर समझाते थे.

    समाज के अंतिम घटक के उत्थान के लिए उन्होंने अंत्योदय का जो विचार रखा, उसे आज व्यवहार में लाया जा सकता है, यह बात आज यवतमाल में दिखाई दिया. यहां दीनदयाल सेवा प्रतिष्ठान का कार्य उसी दिशा की ओर जा रहा है जिसे पंडितजी ने दिखाया है. उक्ताशय प्रतिपादन महामहिम राज्यपाल डॉ. भगत सिंह कोश्यारी ने किया.

    वे बुधवार 24 नवंबर की शाम यवतमाल के निकट निलोना में दीनदयाल प्रबोधिनी के दर्शन करने के बाद भारत रत्न नानाजी देशमुख हॉल में आयोजित एक सभा में बोल रहे थे. इस अवसर पर उपाध्यक्ष ज्योति चव्हाण और सचिव विजय कदरे उपस्थित थे.

    राज्यपाल कोशियारी ने दीनदयालजी की स्मृतियों पर प्रकाश डालते हुए कहा, “मैंने ऐसे महान विचारक को अपने कपड़े स्वयं धोते हुए देखा है. उनकी शिक्षाओं में ग्रामीण जीवन के ऐसे उदाहरण थे जिन्हें एक अशिक्षित व्यक्ति भी समझ सकता था. दीनदयालजी मानते थे परमात्मा के तत्व सजीव की तरह निर्जीव में भी व्याप्त है.उन्होंने एकात्म मानव दर्शन प्रस्तुत किया.

    उन्होंने कहा कि ईश्वर की सच्ची सेवा अज्ञानियों, गरीबों, वंचितों, शोषितों, आदिवासियों और आदिवासियों के जीवन स्तर को ऊपर उठाने में मदद करना है. यवतमाल में दीनदयाल संस्था को गरीब और जरूरतमंद किसानों के साथ-साथ पारधी बंधुओं जैसे कोविड प्रभावित परिवारों के लिए काम करते देख मुझे खुशी हुई.

    राज्यपाल के दीनदयाल प्रबोधिनी पहुंचने पर उन्हें शासन की ओर से शिष्टाचार के मुताबिक मानवंदना दी गयी. इस समय राज्यपाल ने शबरी गेस्ट हाउस में विश्राम के बाद क्षेत्र में दीनदयालजी की प्रतिमा पर माल्यार्पण करते हुए. प्रबोधिननी क्षेत्र में पौधरोपण किया. इस समय हॉल में आयोजित एक समारोह में किसान आत्महत्याग्रस्त परिवार की महिलाओं ने भाईदूज के अवसर पर उनकी आरती उतारी,जबकि राज्यपाल कोश्यारी ने भी उन्हें साड़ियां व अन्य उपहार भेंट स्वरूप भेंट किए.

    कार्यक्रम में संस्था के सचिव विजय कादरे ने प्रस्ताविक रखा. जबकि ज्योति चव्हाण ने आभार व्यक्त किया. इस समय गजानन परसोडकर ने ऑडियो-विजुअल माध्यम से संगठन के संचालन और कार्यों का अवलोकन प्रस्तुत किया. इस अवसर पर विधान परिषद सदस्य नीलय नाइक, विधायक मदन येरावर, विधायक डॉ. अशोक उइके, विधायक नामदेव ससाने, केलापुर के विधायक डॉ. संदीप धुर्वे, भाजपा जिलाध्यक्ष नितिन भूतडा, जिला प्रशासन के सभी अधिकारी, दीनदयाल संस्था के निदेशक, विभिन्न समितियों के पदाधिकारी और कार्यकर्ता उपस्थित थे.