Gutkha
file photo

यवतमाल. यवतमाल जिला अपनी बहुलता और आदिवासी नाम के साथ-साथ किसान आत्महत्या के लिए जाना जाता है. पूरे जिले में 16 तहसील हैं. अगर समय रहते तंबाकु, अवैध गुटके की बिक्री पर रोक लगाई जाए, ऐसी मांग सामाजिक कार्यकर्ता मोहम्मद नदीम ने एक जारी विज्ञप्ति द्वारा की है.

जिले के आर्णी, कलंब, पांढरकवडा, जोडमोहा, घाटंजी इन मार्गों से अवैध तरीके से प्रतिबंधित गुटखे की यातायात की जाती है. इसके व्यसन से कई बच्चे मौत के मुंह फंसते जा रहें है. आदिवासी बहुल जिले के युवा पीढि का भविष्य बर्बाद होने के कगार पर है.

अवैध तंबाकु, गुटके की बिक्री पर नियंत्रण नहीं किया गया तो हजारों लोगों की जान जाने के लिए पुलिस विभाग और खाद्य विभाग जिम्मेदार होंगे. हालांकि, मोहम्मद नदीम को उम्मीद है कि बिक्री पर प्रतिबंध लगाकर लाखों लोगों की जान बचाई जा सकेगी. हालांकि, अगर इस पर कोई कार्रवाई नहीं की जाती है, तो हम तीव्र आंदोलन करेंगे. मोहम्मद नदीम, सैयद अनीस, सज्जाद शेख, सुमित मेश्राम, स्वप्निल हातगडे और अन्य की है.