ST BUS

    यवतमाल 33 लाख से अधिक

    यवतमाल. एसटी निगम के यवतमाल मंडल ने 1 से 7 सितंबर तक 6 लाख 46 हजार किलोमीटर का सफर तय कर 1 करोड़ 83 लाख रुपये की कमाई की. बारिश के कारण आय में भारी गिरावट आई, हालांकि, आगामी त्योहारों में, गिरावट कुछ हद तक भरकर निकली थी.

    11 से 17 सितंबर तक 7 लाख 18 हजार किलोमीटर का सफर तय कर 2 करोड़ 16 लाख 96 हजार रुपये की कमाई करने में सफल रही है. उत्सव के दौरान निगम के यवतमाल संभाग की आय में 33 लाख रुपये से अधिक की वृद्धि हुई है.

    निगम पर छाई कोरोना वैश्विक महामारी थमने का नाम नहीं ले रही है उपर से लगातार बारिश से भी एसटी को फटका लगा है. यात्रियों की संख्या में भारी कमी आई. इससे दैनिक यातायात प्रभावित हुआ. चूंकि राजस्व पक्ष लगातार लड़खड़ा रहा है, निगम गंभीर वित्तीय संकट का सामना कर रहा है.

    कर्मचारियों का वेतन अनियमित हो गया है. दैनिक आय का 75 प्रतिशत से अधिक डीजल पर खर्च किया जाता है. शेष राशि रखरखाव व अन्य कार्यों पर खर्च की जा रही है. पिछले डेढ़ साल से निगम को भारी आर्थिक दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. आय बढ़ाने के लिए निगम की ओर से प्रयास की जरूरत है.

    स्कूल-कॉलेज शुरू होने का इंतजार

    महाराष्ट्र राज्य सड़क परिवहन निगम को जिले भर के स्कूल और कॉलेज के छात्रों के माध्यम से बहुत अधिक वित्तीय सहायता मिलती है. ग्रामीण क्षेत्रों से शहर में शिक्षा के लिए आने वाले छात्रों के साथ शिक्षक व कर्मचारी भी आते-जाते रहते हैं. यात्रा का रियायती मूल्य सरकार से लेना होगा. इसलिए निगम को हर जगह स्कूल-कॉलेज शुरू होने का इंतजार है.

    डीजल पर ज्यादा खर्च करें

    एसटी की कमाई का ज्यादातर हिस्सा डीजल पर खर्च होता है. इस खर्च को बचाने के लिए निगम ने इलेक्ट्रिक बस की ओर कदम बढ़ाया है. अगले कुछ महीनों में ऐसी बसों को बेड़े में शामिल कर लिया जाएगा. इसके अलावा, ऐसे संकेत हैं कि विभिन्न कारणों से निकट भविष्य में बसों की संख्या में कमी आएगी. इस संबंध में उपायों की जरूरत है.