Assembly session from today, Pilot will sit next to Gehlot, not next to him

    जयपुर: राजस्थान में गहलोत सरकार कैबिनेट विस्तार को लेकर बड़ी खबर सामने आ रही है। जिसके अनुसार कांग्रेस आलाकमान ने कैबिनेट विस्तार को अपनी मंजूरी देदी है, जिसके बाद आने वाले दो से तीन दिनों में नए मंत्रियों को शपथ दिलाई जा सकती है। ज्ञात हो कि, पिछले कई महीनो से राजस्थान सरकार में कैबिनेट विस्तार की चर्चा शुरू है। 

    अशोक गहलोत ने की थी सोनिया गांधी से मुलाकात 

    मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर पिछले दिनों मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की थी। दोनों नेताओं के बीच करीब बड़ी देर तक बातचीत चली थी। बैठक के बाद बाहर निकले गहलोत ने कहा था कि , “यह आलाकमान तय करेगा कि कब मंत्रिमंडल विस्तार होना है। हमने इसे आलाकमान पर छोड़ दिया। मैंने राजस्थान के बारे में पूरी जानकारी दे दी है। हमारे प्रदेश प्रभारी अजय माकन राजस्थान आते रहते हैं। मुझे उम्मीद है कि वह कांग्रेस अध्यक्ष से बात करेंगे, पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ विचार-विमर्श करेंगे और जो आपस में बातचीत हुई है, उसके आधार पर जो फैसला होगा, वह हम सबको मंजूर होगा।”

    राहुल गांधी के घर हुई बैठक 

    राजस्थान में अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच सत्ता को लेकर खींचतान चल रहा है। पायलट खेमा लगातार मंत्रिमंडल विस्तार की मांग कर रहा है। इसी को लेकर पिछले दिनों राहुल गांधी ने अपने आवास पर मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर बैठक की थी। इस बैठक में सचिन पायलट, प्रदेश प्रभारी अजय माकन, संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल और महासचिव प्रियंका गांधी भी मौजूद थी। 

    मंत्रिमंडल में नौ पद खाली 

    गहलोत कैबिनेट में अभी 21 मंत्री हैं और नौ पद खाली पड़े हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कांग्रेस सरकार वर्तमान में 50 प्रतिशत से ज्यादा मंत्रियों को बदल सकती है। इसी के साथ कई बड़े मंत्रियों की भी छुट्टी तय मानी जा रही है। उनके जगह पर नए चेहरों को शामिल किया जाएगा। इस विस्तार में पायलट गुट को भी अच्छा सम्मान देने की बात की जा रही है।