बीएसएफ को मिले अधिकार पर मंत्री परगट सिंह का अमरिंदर सिंह पर हमला, कहा- वो महेशा भाजपा के साथ

    चंडीगढ़: भारतीय सीमा सुरक्षा बल को मिले नए अधिकार को लेकर कांग्रेस और केंद्र सरकार आमने सामने हैं। कांग्रेस जहां इसे राज्य सरकार के अधिकारों पर अतिक्रमण बता रही है। वहीं केंद्र इसे राष्ट्र और सीमा की सुरक्षा के लिए महत्वपूर्ण बता रहा है। वहीं केंद्र के इस फैसले को कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी अपना समर्थन दिया है। कैप्टन के इस समर्थन पर कांग्रेस बिफर गई है। पंजाब सरकार में मंत्री परगट सिंह ने हमला बोलते हुए अमरिंदर को भाजपा का आदमी बताया है।”

    परगट सिंह ने गुरुवार को पत्रकारों से बात करते हुए कहा, “मैंने हमेशा कहा है कि कैप्टन सिर्फ बीजेपी के साथ हैं। पहले वह धान खरीद में देरी करने के लिए दिल्ली गए थे और अब यह… यदि आप पंजाब में बीएसएफ की तैनाती कर रहे हैं तो यह राज्यपाल शासन लागू करने के आपके इरादे को दर्शाता है।”

    उन्होंने कहा, “मैं केंद्रीय गृह मंत्री से अपील करना चाहता हूं कि 2022, 2024 के चुनावों के लिए पंजाब को अलग-अलग दिशाओं में न ले जाएं। हम किसी को भी पंजाब को सांप्रदायिक बनाने की इजाजत नहीं देंगे।”

    केंद्र करे अपने निर्णय की समीक्षा

    केंद्र सरकार के इस निर्णय पर पंजाब के उपमुख्यमंत्री ओपी सोनी ने कहा, “यह राज्य का अधिकार है। केंद्र राज्य को तुरंत लेना चाहता है। केंद्र और राज्य को अपनी-अपनी जिम्मेदारी निभानी चाहिए। केंद्र को आदेश की समीक्षा करनी चाहिए।”

    ज्ञात हो कि, केंद्र सरकार ने सीमा सुरक्षा को लेकर बड़ा निर्णत लिया है। जिसके तहत बीएसएफ को अंतराष्ट्रीय सीमा से 50 किलोमीटर तक के  क्षेत्र में तलाशी लेने की इजाजत दे दी है। केंद्रीय गृह मंत्रालय यह निर्णय लगातार हो रही घुसपैठ और पाकिस्तान से आ रहे हथियारों को देखते हुए लिया।