vaccination
Representative Image

    भुवनेश्वर: ओडिशा के कोविड-19 रोधी टीकाकरण अभियान से जुड़े एक वरिष्ठ अधिकारी ने इस बात पर चिंता जताई है कि टीके की एक खुराक ले चुके लोग दूसरी खुराक लेने के लिए नहीं आ रहे हैं] जिसकी वजह से राज्य में अभियान की गति मंद पड़ रही है। अधिकारी ने बताया कि ओडिशा में अब तक दो करोड़ से अधिक लोगों को टीके की पहली खुराक दी जा चुकी है जबकि दोनों खुराक लेने वाले लोगों की संख्या महज 69.8 लाख है।  

    राज्य में कोविड-19 रोधी टीकाकरण अभियान के नोडल अधिकारी डॉ. बिजय पाणिग्रही ने कहा, ‘‘और 28 लाख लोगों को टीके की दूसरी खुराक अब तक ले लेनी चाहिए थी। राज्य के कुछ हिस्सों खासकर जनजातीय क्षेत्रों में टीके की दूसरी खुराक लगाने की गति धीमी है।” उन्होंने कहा कि बार-बार ताकीद करने के बावजूद लोगों ने समय पर दूसरी खुराक नहीं ली।  

    ओडिशा की 3.9 करोड़ की पात्र आबादी में से अब तक 51.4 फीसदी को पहली खुराक लगाई जा चुकी है। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने स्वास्थ्य क्षेत्र के पेशेवरों की इस अभियान के प्रति प्रतिबद्धता के लिए उनका आभार जताया था। स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि राज्य में शनिवार को कोरोना वायरस के 695 नए मामले सामने आए, जिससे संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 10,19,621 पर पहुंच गई। छह संक्रमितों की मौत होने से मरने वालों की संख्या 8,128 हो गई। 

    राज्य में फिलहाल 5,876 मरीज उपचाराधीन हैं जबकि अब तक 10,05,564 लोग संक्रमण से उबर चुके हैं। राज्य में संक्रमण दर 5.13 फीसदी है। राज्य में अब तक 1.91 करोड़ से अधिक नमूनों की कोविड-19 संबंधी जांच की जा चुकी है।