accident
File Photo

    बेरहामपुर: ओडिशा के कंधमाल और गंजम जिलों की सीमा के पास, कलिंग घाट पर यात्रा के दौरान पहाड़ी मोड़ पर बस के घाटी में गिर जाने से पश्चिम बंगाल के कम से कम छह पर्यटकों की जान चली गई और 40 घायल हो गए। पुलिस ने यह जानकारी देते हुए बताया कि मृतकों में चार महिलाएं हैं। पुलिस ने बुधवार को बताया कि यह घटना गंजम के दुर्गाप्रसाद गांव के पास आधी रात को हुई और घायलों में 15 लोगों की हालत गंभीर है। 

    गंजम के पुलिस अधीक्षक बृजेश राय ने कहा कि बस 77 लोगों को लेकर जा रही थी, जिनमें पश्चिम बंगाल के हावड़ा और हुगली जिलों के लगभग 65 पर्यटक थे। बस कंधमाल जिले के दरिंगीबंदी से आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम की ओर जा रही थी तभी यह हादसा हुआ। पास के भंजनगर से पुलिस और दमकलकर्मी मौके पर पहुंचे और बस यात्रियों को बचाया, जिनमें से छह की जान चली गई और 40 घायल हो गए थे। 

    पुलिस को संदेह है कि चालक द्वारा वाहन से नियंत्रण खो देने के बाद पहाड़ी इलाके में एक मोड़ पर बस घाटी में गिर गई। भंजनगर अनुमंडल पुलिस अधिकारी एस एस मिश्रा ने बताया कि हादसे में मारे गए छह पर्यटकों के शव बस की खिड़की के शीशे तोड़कर निकाले गए। पुलिस ने बताया कि मृतकों में हावड़ा जिले के सुल्तानपुर की सुपिया डेनरे (33), संजीत पात्रा (33), रीमा डेनरे (22), उनकी मां मौसमी डेनरे और बरनाली मन्ना (34) और हुगली के गोपालपुर के स्वपन गुशैत (44) शामिल हैं। 

    पुलिस ने कहा गंभीर रूप से घायल यात्रियों को एमकेसीजी मेडिकल कॉलेज सह अस्पताल और भंजनगर उपमंडल अस्पताल में भर्ती कराया गया। मेडिकल कॉलेज सह अस्पताल में इलाज करा रहे कम से कम दस लोगों की हालत चिकित्सकों ने गंभीर बताई है। सूत्रों के मुताबिक, पर्यटक मंगलवार को दरिंगबाड़ी पहुंचे थे। 

    पूरा दिन पहाड़ी कस्बे में बिताने के बाद रात के करीब 11 बजकर 30 मिनट पर वह विशाखापट्टनम के लिए रवाना हुए। इसके बाद यह हादसा हुआ। ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने दुर्घटना पर दुख जताया है और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की है। इस बीच, ओडिशा के परिवहन मंत्री पद्मनाभ बेहरा ने दुर्घटना के कारण का पता लगाने के लिए जांच के आदेश दिए हैं। (एजेंसी)