Photo: @ANI/ Twitter
Photo: @ANI/ Twitter

    नई दिल्ली: आंध्र प्रदेश के कोनसीमा जिले के जिला मुख्यालय अमलापुरम में डॉ बी आर अंबेडकर के नाम पर जिले का नाम बदलने को लेकर हिंसा के सिलसिले में पुलिस अब तक 46 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है। समूहों द्वारा विरोध प्रदर्शन की योजना बनाने की खबरों के बीच पुलिस ने विभिन्न जिलों से अतिरिक्त बलों की तैनाती के साथ सुरक्षा कड़ी कर दी है। 

    परिवहन मंत्री और विधायक के आवास में लगा दी थी आग 

    बता दें कि, इससे पहले मंगलवार को जिला मुख्यालय अमलापुरम में डॉ बी आर अंबेडकर के नाम पर जिले का नाम बदलने को लेकर हिंसा भड़कने के बाद प्रदर्शनकारियों ने राज्य के परिवहन मंत्री पिनिपे विश्वरूप और वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के विधायक पोन्नादा वेंकट सतीश के आवास में आग लगा दी।

    हिंसा प्रभावित शहर में भेजे गए अतिरिक्त बल 

    जिले का नाम बदलने का समर्थन करने वाले समूह द्वारा जवाबी विरोध की योजना के खबरों के बीच पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था कड़ी करने के लिए हिंसा प्रभावित शहर में अतिरिक्त बल भेजे है। वहीं, पुलिस ने बैठक और रैलियों पर रोक लगाते हुए सीआरपीसी की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू कर दी है।

    हिंसा में पुलिसकर्मियों समेत दर्जनों लोग घायल 

    उल्लेखनीय है कि, मंगलवार को प्रदर्शनकारियों ने कई जगहों पर हिंसा को अंजाम दिया। उन्होंने पुलिस पर पथराव भी किया और वाहनों में आग लगा दी। इस हिंसा में पुलिसकर्मियों समेत दर्जनों लोग घायल हो गए। 

    जिले का नाम बदलकर डॉ बी.आर.अंबेडकर कोनसीमा जिला रखने का निर्णय 

    उल्लेखनीय है कि, उल्लेखनीय है कि, आंध्र प्रदेश सरकार ने बीते बुधवार को नव-निर्मित कोनसीमा जिले का नाम बदलकर डॉ बी.आर.अंबेडकर कोनसीमा जिला रखने का निर्णय लिया था। इस सम्बन्ध में जल्द ही अधिसूचना जारी होने की संभावना थी।

    विभिन्न दलों, दलित समूहों और जन प्रतिनिधियों ने विरोध प्रदर्शन किया था और सरकार से जिले का नाम बदलकर डॉ बी आर अंबेडकर कोनसीमा जिला रखने की मांग की थी।  जिसके बाद सरकार मने यह निर्णय लिया था। बता दें कि, प्रदेश सरकार ने 4 अप्रैल को कोनसीमा जिले समेत 12 अन्य जिलों का निर्माण किया गया था। जिसके बाद राज्य में कुल जिलों की संख्या 26 हो गई।