Due to incessant rains, the Koel river again in spate, the Meteorological Department expressed the possibility of a strong cyclone from the Bay of West Bengal

    ओमप्रकाश मिश्र 

    रांची. लगातार बारिश की वजह से झारखण्ड (Jharkhand) के कई जिलों में बाढ़ (Flood) सी स्थिति उत्पन्न हो गयी है, नदी-नालों में बहाव तेज हो गया है। डैम में पानी खतरे के निशान से ऊपर जमा होने लगे हैI झारखण्ड के लोहरदगा जिले (Lohardaga District) में तेज बारिश (Heavy Rain) से यहां के कोयल नदी उफान पर हैI लोहरदगा जिले के सेन्हा ब्लॉक स्थित सेरंगहातु और सिठीयो के बीच स्थित कोयल नदी एक बार फिर उफान पर है। शनिवार को दिन-रात लगातार हुई जोरदार बारिश से नदी पूरी तरह लबालब भर गई है। रविवार सुबह नदी का पानी करीब 15 फीट ऊपर उठकर पुल को छूता नजर आया। वहीं, नदी में बाढ़ को देखने के लिए लोगों की भीड़ जुट रही है, एहतियातन पुलिस प्रशासन को इस क्षेत्र में तैनात किया गया है।

    गत माह 31 जुलाई को भी लगातार हुई बारिश से कोयल नदी काफी उफान पर थी। पानी पुल के ऊपर से बह रहा था। इससे लोहरदगा-रांची मार्ग बाधित भी हो गया था। लोगों को सिठियो पुल पर पानी का बहाव बढ़ने के कारण जिला मुख्यालय तक पहुंचने में लगभग 10 किमी की अतिरिक्त दूरी तय करना पड़ रहा है। जिस पुल पर नदी उफान पर है, ठीक उससे कुछ दूरी पर नए पुल का निर्माण कार्य प्रगति पर है। पथ निर्माण विभाग द्वारा लगभग 11 करोड़ रुपए की लागत से यह निर्माण कार्य 2018 में शुरू किया गया था, जिसका लाभ लोगों को 2021 में मिलने की उम्मीद थी, पर अब तक निर्माण कार्य अधुरा पड़ा है।

    कहीं-कहीं भारी बारिश की चेतावनी जारी

    इधर, 10 अगस्त से राज्य के लगभग सभी हिस्सों में बारिश होने के आसार हैं। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक, अगले 48 घंटों में झारखंड के उत्तर में मानसून केंद्रित रहेगा। इससे पलामू से लेकर संथाल परगना तक अच्छी बारिश हो सकती है। इस दौरान कहीं-कहीं भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है। अन्य हिस्सों में सामान्य से हल्की बारिश होने का अनुमान है। मौसम विभाग के अनुसार, पश्चिम बंगाल से लेकर बांग्लादेश के पश्चिम में एक व्यापक चक्रवाती दबाव  बना है। इससे 10 अगस्त से झारखण्ड के कई जिलों में इसका  व्यापक असर पड़ने की संभावना है।