Abhishek Banerjee
ANI Photo

Loading

कोलकाता. पश्चिम बंगाल (West Bengal) के हावड़ा (Howrah) में गुरुवार को रामनवमी (Ram Navami) के जुलूस के दौरान हिंसा भड़क गई। यहां जुलूस का विरोध कर रहे कुछ लोगों ने वाहनों में आग लगा दी। इसे लेकर अब राज्य की राजनीति भी गरमाई है। टीएमसी ने हिंसा के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और अन्य दक्षिणपंथी संगठन को जिम्मेदार ठहराया है।

हावड़ा में हुई हिंसा को लेकर TMC महासचिव अभिषेक बनर्जी ने भाजपा पर आरोप लगाते हुए हिंसा को पूर्व नियोजित बताया। उन्होंने कहा, “यह पूर्व नियोजित था। श्यामबाजार से एक भाजपा नेता कह रहे थे कि कल टीवी पर नजर रखना, क्यों? एक दिन पहले ही वह नेता गृह मंत्री से मिलकर श्यामबाजार आया था।”

बनर्जी ने कहा कि, “परमिटेड कॉपी, प्रतिभागियों की सही संख्या और रैली की सटीक शुरुआत और अंत के विवरण के बारे में हावड़ा पुलिस आयुक्तालय का कोई जवाब नहीं था। उन्होंने कोई दस्तावेज जमा नहीं किया, लेकिन जिस रूट की अनुमति नहीं थी, उस पर जुलूस निकालना शुरू कर दिया”

बनर्जी ने आगे कहा कि, “मुख्यमंत्री ने कहा कि इसमें अगर पुलिस की ओर से कोई चूक हुई है, तो उनके खिलाफ मामला दर्ज किया जाएगा और कार्रवाई की जाएगी।”

वहीं, पश्चिम बंगाल विधानसभा में विपक्ष के नेता सुवेंदु अधिकारी ने कहा कि, “यहां बहुत खराब स्थिति है। देश में ऐसी स्थिति होना बहुत शर्म की बात है। पुलिस भी कुछ नहीं कर रही है। पत्रकार घायल हो रहे हैं। ये सब टीएमसी कर रही है… यहां पेट्रोल बम विस्फोट हुआ है, तो एनआईए जांच तो होनी ही चाहिए।”

अधिकारी ने कहा कि, “बंगाल की हालत बहुत खराब है। प्रधानमंत्री को कुछ करना पड़ेगा। मुझे उम्मीद है, मोदी जी और अमित शाह जी ने कश्मीर को ठीक कर दिया, वो लोग बंगाल को भी सही वक्त पर ठीक कर देंगे।”

गौरतलब है कि शुभेंदु अधिकारी ने कलकत्ता उच्च न्यायालय में हावड़ा और डालखोला में हिंसा की घटनाओं के संबंध में एक जनहित याचिका दायर की है, जिसमें एनआईए जांच और ऐसे क्षेत्रों में केंद्रीय बलों की तत्काल तैनाती की मांग की गई है। कार्यवाहक न्यायमूर्ति ने जनहित याचिका दायर करने की अनुमति दी और उसे 3 अप्रैल को सूची के शीर्ष पर प्रदर्शित करने का निर्देश दिया।