Question, International Film Festival in Goa, Film Festival, Goa

Loading

  • गोवा फॉरवर्ड पार्टी के विजय सरदेसाई ने की जांच की मांग

पणजी: गोवा में हुए 54 वां अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव अपनी शुरुआत से ही विवादों के घेरे में आ गया, जिसकी वजह यह रही कि इस इवेंट का आयोजन गोवा के प्रसिद्ध कला अकादमी की इमारत में किया गया। जिसकी संरचनात्मक सुरक्षा को लेकर जानकर पहले से ही चिंता जता चुके थे। आरोप ये भी है कि कई बार एतराज जताने के बावजूद ये आयोजन गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत की जिद की वजह से कला अकादमी में किया गया है। बंगलुरु के एक कला प्रेमी और आरटीआई एक्टिविस्ट टी. जे. अब्राहम ने इस प्रोजेक्ट से जुड़े सारे संदिग्ध लेन देन को सामने लाने का बीड़ा उठाया था। अब्राहम ने इस पूरे प्रोजेक्ट से जुड़ी कई जानकारियां मसलन कॉन्ट्रैक्टर्स की पहचान, रेनोवेशन के काम में होने वाले खर्च की रकम और इस कॉन्ट्रैक्ट को देने के लिए की गई टेंडरिंग की प्रक्रिया को जानने के लिए कई याचिकाएं दाखिल की थीं। लेकिन राज्य सरकार की तरफ से सूचना के अधिकार के तहत कोई जानकरी उपलब्ध नहीं करवाई गई। 

 
इसके उल्टे गोवा सरकार की तरफ से ये कहा गया कि ये प्रोजेक्ट आरटीआई के दायरे में नहीं हैं। गोवा के कला अकादमी की इमारत एक हेरिटेज स्ट्रक्चर है और यहां के लोगों का एक वर्ग इसे अपनी धरोहर मानते हैं। लेकिन जिस तरह से राज्य सरकार ने इसके रिनोवेशन के काम में कोई पारदर्शिता नहीं दिखाई और अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव के आयोजन की वजह से इस काम को आनन-फानन में पूरा किया। उसकी वजह से अब वो आरोपों का सामना कर रही है। आरोप ये है कि इसका उद्घाटन जल्दबाजी में इसलिए किया गया ताकि दिखाया जा सके कि सब कुछ सामान्य है। 
 
 
जबकि इस इमारत की स्ट्रक्चरल सेफ्टी को पूरी तरह से नजरअंदाज कर दिया गया। अब इसको लेकर सीएम सावंत विरोधियों के निशाने पर आ गए हैं। गोवा फॉरवर्ड पार्टी के विजय सरदेसाई ने इस सिलसिले में जांच की मांग की है। उन्होंने आरोप लगाया है कि इस प्रोजेक्ट के शुरुआती काम अवैध तरीके से सीएम के करीबियों को दिए गए। वैसे ये मुद्दा इसलिए भी बेहद गंभीर है क्योंकि अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में देश-विदेश से फिल्म जगत की जानी मानी शख्सियत गोवा पहुंचती हैं। ऐसे में सरकार की कोई भी लापरवाही देश की छवि पर बुरा असर डाल सकती है। बता दें कि इसी साल जुलाई में कला अकादमी के इमारत की छत रेनोवेशन के दौरान भरभरा कर गिर पड़ी थी। ये रेनोवेशन का काम गोवा सरकार की ओर से कराया जा रहा था। लेकिन इसके दौरान ही घटिया दर्जे के काम की वजह से ये हादसा हो गया।