विशाखापत्तनम में यौन उत्पीड़न से तंग आकर छात्रा ने की आत्महत्या
प्रतीकात्मक तस्वीर

Loading

विशाखापट्टनम: आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) के विशाखापट्टनम (Visakhapatnam) से एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है जहां कॉलेज में हो रहे यौन उत्पीड़न से तंग आकर एक छात्रा ने आत्महत्या कर ली। छात्र ने जान देने से पहले अपनी बहन को लिखे टेक्स्ट मैसेज में सारा दर्द बयान किया। इस मामले के बाद लड़की के परिवार सहित स्थानीय लोगों में कॉलेज के प्रति आक्रोश है।

विशाखापत्तनम में शुक्रवार को चैतन्य इंजीनियरिंग कॉलेज (Chaitanya Engineering College) के प्रथम वर्ष की डिप्लोमा की एक 17 साल की छात्रा ने कॉलेज की इमारत से कूदकर अपनी जान दे दी। पुलिस जांच में पता चला है की छात्रा के साथ कॉलेज में यौन उत्पीड़न किया गया था और वह संस्थान के अधिकारियों या पुलिस से शिकायत नहीं कर सकी क्योंकि उसे आरोपियों ने तस्वीरें और वीडियो वायरल करने की धमकी दी थी।

सुसाइड नोट में बताया मामला
छात्र की आत्महत्या के कारण तब हुआ जब उसने ने जान देने से पहले अपनी बहन को लिखे टेक्स्ट मैसेज में सारी बात लिखी थी। इस नोट में छात्र ने आरोप लगाया था कि उसके साथ यौन उत्पीड़न हुआ है और कॉलेज की कई अन्य लड़कियां भी इसी मुद्दे का सामना कर रही हैं।

छात्र ने अपनी बहन को किए गए मेसेज में लिखा था- “तनाव मत लो, मेरी बात सुनो, मैं तुम्हें नहीं बता सकती कि मैं क्यों ये कर रही हूं और अगर में बताउंगी भी तो तुम समझ नहीं पाओगे। आप पूछ सकते हैं कि मैं कॉलेज से शिकायत क्यों नहीं कर रही हूं, लेकिन इससे मदद नहीं मिलेगी। उन्होंने मेरी तस्वीरें ले ली हैं और मुझे धमकी दे रहे हैं। यहां और भी लड़कियाँ है। हम किसी को बता नहीं पा रहे हैं। हम बीच में फंस गए हैं। अगर मैं पुलिस में शिकायत दर्ज कराऊ या अधिकारियों से संपर्क करूं तो वे मेरी तस्वीरें सोशल मीडिया पर जारी कर देंगे।”

कॉलेज पर टूटा लोगों का गुस्सा
वहीं घटना के बाद छात्रा के परिवार सहित कॉलेज में पढ़ने वाली अन्य लड़कियों के माता-पिता उनकी सुरक्षा को लेकर चिंतित है। इनका गुस्सा कॉलेज प्रशासन पर टूट पड़ा है। लोग मामले कि कड़ी जांच की अपील कर रहे है।

वहीं, मृतक के भाई ने कहा की, “उसने (मृतक छात्र) एक मैसेज लिखा और परिवार के सदस्यों को भेजा, मैसेज में कहा गया कि उसने यौन उत्पीड़न के कारण यह कदम उठाया। कॉलेज के फैकल्टी मेंबर्स इसमें शामिल हैं। हमने उसके लिए न्याय चाहिए।