Bengaluru Schools Bomb Threat

Loading

बेंगलुरु. बेंगलुरु (Bengaluru) के 44 निजी स्कूलों (Private Schools) को शुक्रवार को बम से उड़ाने की धमकी (Bomb Threat) मिलने के बाद पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया। इन सभी स्कूलों को ईमेल के जरिए धमकी मिली है। ईमेल में दावा किया गया कि स्कूल परिसर में विस्फोटक लगाए गए हैं और वह बम कभी भी ट्रिगर हो सकते हैं। जहां बम की धमकी मिली थी, जिनमें व्हाइटफील्ड, कोरेमंगला, बसवेशनगर, यालहंका और सदाशिवनगर के स्कूल शामिल हैं। इस घटना पर कर्नाटक के गृह मंत्री डॉ. जी परमेश्वर ने कहा कि राज्य सरकार ने इस घटना को गंभीरता से लिया है और आरोपी को बख्शेंगे नहीं।

गृह मंत्री ने कहा, “जिसने भी यह किया है, यह घृणित कार्य है। हमने इसे गंभीरता से लिया है। बम निरोधक दस्तों से स्कूलों की जांच की जा रही है। अगर चौथी, पांचवीं या छठी बार इतनी बड़ी घटना होती है, तो उससे बड़ी कोई आपदा नहीं है। इसलिए हम बहुत सावधान हैं। बेंगलुरु में किसी भी माता-पिता को चिंता करने की जरूरत नहीं है। हमने सभी तरह के उपाय किए हैं। जो ईमेल एड्रेस मिला है, टेक्निकल टीम उसकी जांच कर रही है। इसके माध्यम से हम तलाश कर सत्यापन करेंगे और कार्रवाई करेंगे।”

यह घटना आज सुबह की है, जब 48 निजी स्कूलों को धमकी भरा ईमेल मिला। इसके बाद स्कूल प्राधिकारियों ने पुलिस को इसकी जानकारी दी जिसके बाद वह बम निरोधक दस्ते और तोड़फोड़ रोधी जांच दल के साथ संबंधित संस्थानों में पहुंची। छात्रों और कर्मचारियों को स्कूल परिसरों से तुरंत बाहर निकाल लिया गया। तलाशी लेने के पर स्कूलों से कोई संदिग्ध वस्तु नहीं मिली। वहीं, इसकी जानकारी मिलते ही छात्रों के माता-पिता बेहद घबरा गए और अपने बच्चों को सुरक्षित घर वापस लाने के लिए स्कूल भागे।

उधर, स्कूल प्राधिकारियों ने पुलिस को इसकी जानकारी दी जिसके बाद वह बम निरोधक दस्ते और तोड़फोड़ रोधी जांच दल के साथ संबंधित संस्थानों में पहुंची। छात्रों और कर्मचारियों को स्कूल परिसरों से तुरंत बाहर निकाल लिया गया। तलाशी लेने के पर स्कूलों से कोई संदिग्ध वस्तु नहीं मिली। इस घटना की पर छात्रों के माता-पिता को घटना के बारे में जैसे ही पता चला, वे बेहद घबरा गए और अपने बच्चों को सुरक्षित घर वापस लाने के लिए स्कूल भागे।

पुलिस ने बताया कि पिछले साल भी कुछ शरारती तत्वों ने बेंगलुरु के विद्यालयों में बम होने का दावा करते हुए इसी प्रकार के ईमेल भेजे थे, जो बाद में एक अफवाह साबित हुए। कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने कहा कि उन्होंने पुलिस से ईमेल और उसके स्रोत की गंभीरता से जांच करने और एहतियात के तौर पर स्कूलों और मंदिरों को पर्याप्त सुरक्षा प्रदान करने का निर्देश दिया है। (एजेंसी इनपुट के साथ)