10 companies, invest, 11 lakh crore, UP, 10 companies will invest Rupees 11 lakh crore in UP

Loading

  • योगी सरकार कर रही ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी के पहले फेज की तैयारी 
  • नोएडा से लेकर सोनभद्र तक बड़ा निवेश करने के लिए तैयार हैं 10 कंपनियां 
  • डेटा सेंटर, रिटेल, स्किल डेवलपमेंट और ऊर्जा जैसे सेक्टर में निवेश करेंगी ये कंपनियां 
  • टाटा, हीरानंदानी, टस्को, ग्रीनको, सिफी जैसी बड़ी कंपनियां यूपी में करेंगी निवेश 

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दिशानिर्देशन में प्रदेश सरकार ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी (जीबीसी) के प्रथम फेज की तैयारी में जुटी हुई है। फरवरी में हुए यूपी ग्लोबल इन्वेस्टर्स के बाद अबतक यूपी को 40 लाख करोड़ के निवेश प्रस्ताव प्राप्त हो चुके हैं। वहीं जीबीसी के पहले फेज में सरकार और उद्यमी 13 लाख करोड़ से अधिक के निवेश को धरातल पर उतारने के लिए तैयार हैं। प्रथम फेज में निवेश के मामले में जिन टॉप 10 कंपनियों की चर्चा हो रही है उनमें टाटा, हीरानंदानी, टस्को, ग्रीनको जैसे दिग्गजों के नाम शामिल हैं। ये कंपनियां प्रदेश के अंदर डेटा सेंटर, रिटेल मार्ट, स्किल डेवलपमेंट और ऊर्जा जैसे सेक्टर में निवेश करने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं। 

डेटा सेंटर पार्क में 30 हजार करोड़ का निवेश 
जीबीसी के प्रथम फेज में प्रदेश में होने जा रहे सबसे बड़े निवेश की बात करें तो यह एनआईडीपी डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड (हीरानंदानी) ग्रुप की ओर से गौतमबुद्ध नगर में डेटा सेंटर पार्क के निर्माण में होने जा रहा है। 30 हजार करोड़ का ये निवेश यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण में स्थापित करने की तैयारी है। वहीं 27 हजार करोड़ से अधिक का निवेश एनटीपीसी लिमिटेड की ओर से किया जाना है। एनटीपीसी प्रदेश में ऊर्जा सेक्टर में दो संयंत्र स्थापित करने के लिए तैयार है। इनमें एक झांसी में और दूसरा सोनभद्र में स्थापित किया जाएगा। इसके लिए सोनभद्र के ओबरा में सुपर थर्मल पॉवर प्लांट की स्थापना के लिए यूपी राज्य विद्युत उत्पादन निगम लि. बोर्ड से अनुमोदन भी प्राप्त हो चुका है। इसके साथ ही 17 हजार करोड़ से अधिक की परियोजना ग्रीनको कंपनी की ओर से सोनभद्र में स्थापित होने जा रही है। ऑफ स्ट्रीम क्लोज लूप पंप स्टोरेज परियोजना के लिए भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया तेजी से आगे बढ़ रही है। इसी प्रकार 8 हजार करोड़ की परियोजना सिफी इनफिनिट स्पेस लिमिटेड की ओर से धरातल पर उतारी जा रही है। ये प्रोजेक्ट आईटी एंड इलेक्ट्रॉनिक्स में है, जिसे नोएडा में डेटा सेंटर की स्थापना हो रही है। ये परियोजना निर्माणाधीन है। 

जालौन में सौर ऊर्जा पार्क का होगा निर्माण
इसके अतिरिक्त 7500 करोड़ की परियोजना एम3एम इंडिया प्रा लिमिटेड की ओर से नोएडा में लगने जा रही है। ये रियल स्टेट की परियोजना है। इसके लिए नोएडा के सेक्टर-94 में 52 हजार वर्ग मीटर भूमि आवंटित की जा चुकी है। साथ ही रेरा से अनुमोदन भी प्राप्त हो चुका है। इसी प्रकार टस्को लिमिटेड की ओर से 1 हजार मेगावाट की माताटीला फ्लोटिंग सोलर पॉवर प्लांट की स्थापना 6500 करोड़ की भी धरातल पर उतरने को तैयार है। बुंदेलखंड के ललितपुर जिले में इस पार्क की स्थापना होने जा रही है, जिसके लिए सभी अनुमतियां मिल चुकी हैं तथा परियोजना का कार्यान्वयन प्रगति पर है। वहीं बुंदेलखंड सौर ऊर्जा लिमिटेड की ओर से 6 हजार करोड़ की परियोजना जालौन में धरातल पर उतरने जा रही है। इस परियोजना को भी भारत सरकार की एमएनआरई राष्ट्रीय सौर पार्क योजना के अंतर्गत अनुमोदन प्राप्त हो चुका है। 

नोएडा में 4300 करोड़ से हाईपर रिटेल मार्ट 
वहीं प्रयागराज व मीरजापुर में एसीएमई क्लीनटेक सॉल्यूशंस प्रा. लिमिटेट की ओर से 1250 मेगावाट की दो ऑफ स्ट्रीम क्लोज लूप पंप स्टोरेज परियोजना भी धरातल पर उतरने जा रही है। 6 हजार करोड़ की इस परियोजना को योगी सरकार की ओर से सैद्धांतिक अनुमोदन प्रदान कर दिया गया है। इसके लिए भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया चल रही है। वहीं नोएडा में हाईपर रिटेल मार्ट की स्थापना इंका (आईकिया) की ओर 4300 करोड़ से किया जा रहा है। इसके लिए पर्यावरणीय अनुमोदन प्रदान कर दिया गया है, इसका निर्माण भी शुरू हो गया है। इसके अलावा टाटा टेक्नोलॉजी की ओर से भी 4174 करोड़ से प्रदेश के 150 आईटीआई को अपग्रेड करने में खर्च किया जाएगा। इसके लिए कुछ माह पहले ही मुख्यमंत्री के सामने एमओयू हस्ताक्षरित किया गया है।