गाजियाबाद में ‘‘धार्मिक दुश्मनी” भड़काने के आरोप में BSP के पूर्व विधायक पर मामला दर्ज

    गाजियाबाद: बहुजन समाजवादी पार्टी (बसपा) के पूर्व विधायक असलम चौधरी पर एक वीडियो क्लिप के कारण धार्मिक समूहों के बीच दुश्मनी भड़काने के आरोप में यहां मामला दर्ज किया गया है। इस वीडियो में चौधरी लोनी के विधायक नंद किशोर गुर्जर के खिलाफ कई आरोप लगाते हुए नजर आए थे। पुलिस ने रविवार को यह जानकारी दी।

    हाल में समाजवादी पार्टी (सपा) में शामिल हुए धौलाना के पूर्व विधायक चौधरी के खिलाफ जिले के मसूरी थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई है। सोशल मीडिया पर सामने आए एक वीडियो में चौधरी को एक सभा को संबोधित करते हुए और 11 नवंबर को लोनी में ‘‘मुठभेड़” पर सवाल उठाते हुए देखा गया था। ‘‘गोहत्यारों” को पकड़ने के लिए की गई छापेमारी के दौरान मुठभेड़ में सात मुस्लिम लोगों (एक किशोर सहित) के पैर में गोली लगी थी।

    लोनी बॉर्डर के थाना प्रभारी राजेंद्र त्यागी के नेतृत्व में छापेमारी की गई थी जो कथित मुठभेड़ के लिए जांच का सामना कर रहे हैं। चौधरी ने वीडियो में गुर्जर पर कथित मुठभेड़ के लिए त्यागी को संरक्षण देने और उनके तबादले को रोकने के लिए काम करने का आरोप लगाया। अपने भाषण में चौधरी को यह कहते हुए भी सुना गया कि वह मुठभेड़ का बदला गुर्जर से लेंगे।

    पुलिस ने बताया कि डासना में तैनात उपनिरीक्षक लोकेश कुमार की शिकायत पर चौधरी के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 506, 505 सी और 153 के तहत प्राथमिकी दर्ज की गयी है।

    वीडियो में कही गई बातों पर प्रतिक्रिया देते हुए भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) के विधायक गुर्जर ने कथित तौर पर चौधरी को ‘‘एक अशिक्षित व्यक्ति” कहा। गुर्जर ने चौधरी पर गौ तस्करों को संरक्षण देने का भी आरोप लगाया और कहा कि चौधरी पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत मामला दर्ज किया जाना चाहिए। (एजेंसी)