water
फोटो ट्वीटर

    लखनऊ: बुंदेलखंड (Bundelkhand) और विंध्‍य समेत प्रदेश भर के ग्रामीण इलाकों (Rural Areas) में पीने के साफ पानी की आपूर्ति पर पर लगातार काम कर रही राज्‍य सरकार की 735 पेयजल आपूर्ति योजनाओं (Drinking Water Supply Schemes) पर केंद्र सरकार (Central Government) ने अपनी मुहर लगा दी है। राज्यस्तरीय योजना स्वीकृति समिति ने ग्रामीण क्षेत्रों में नल से पानी कनेक्शन के लिए राज्‍य सरकार की ओर से भेजे गए  1,882 करोड़ रुपए के प्रस्तावों को मंजूरी दे दी है । 

    इस बीच केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने ट्वीट कर यूपी में हर घर नल योजना की प्रगति की जमकर तारीफ की है। केंद्रीय मंत्री ने राज्‍य सरकार की तारीफ करते हुए कहा है कि यूपी ने हर घर नल से जल योजना को जन आंदोलन बना दिया है। केंद्र सरकार ने हर घर नल योजना को लेकर पहली बार किसी राज्‍य की इस तरह तारीफ की है।

    39 लाख की आबादी को फायदा होगा

    गुरुवार को हुई बैठक में स्‍वीकृत की गई इन योजनाओं से 33 जिलों के 1262 गांवों की 39 लाख की आबादी को फायदा होगा। गुरुवार को हुई बैठक में समिति द्वारा 735 योजनाओं को स्वीकृति प्रदान की गयी। इसके तहत 4।03 लाख ग्रामीण परिवारों को पानी के कनेक्शन दिए जाने की योजना है । मौजूदा समय में प्रदेश में 2.64 करोड़ में से कुल 34 लाख (12.9%) ग्रामीण परिवारों को उनके घरों तक नल का पानी मिल रहा है।

    कई इलाकों में चल रहा है ट्रायल रन 

    केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने अपने ट्वीट मे इस बात का भी उल्लेख किया है कि राज्य में 1882 करोड़ रुपए के प्रस्ताव स्वीकृत किए गए हैं, ताकि गांवों में आसानी से नल कनेक्शन पहुंचाए जा सकें। इससे 1262 गांवों के 39 लाख लोगों को लाभ मिलेगा। उन्‍होंने लिखा है कि योगी जी की सरकार ने वर्ष 2021-22 में 78 लाख परिवारों को नल कनेक्शन देने की संवेदनशील योजना बनाई है। यूपी में “जल जीवन भी और अब मिशन भी “ बन चुका है। बता दें कि यूपी में युद्ध स्तर पर हर घर को नल से जल देने की योजना पर काम तेजी से किया जा रहा है। सरकार अगले महीने बुंदेलखंड और विंध्य क्षेत्र के सैकड़ों गांवों में हर घर को नल से जल देने की शुरुआत करने जा रही है। इसके लिए कई इलाकों में ट्रायल रन चल रहा है।