Dr Dinesh Sharma

Loading

संविधान पर भ्रम फैला रही कांग्रेस!
संपत्ति छीनने वाले कर रहे गुमराह

बीजेपी के वरिष्ठ नेता, यूपी के पूर्व उपमुख्यमंत्री, सांसद (राज्यसभा) एवं महाराष्ट्र के चुनाव प्रभारी डॉ. दिनेश शर्मा, लोकसभा चुनाव 2024 की गहमागहमी के बीच बुधवार को सदिच्छा भेंट हेतु ‘नवभारत’ कार्यालय पहुंचे। जहां उन्होंने देश के मौजूदा सियासी हालात पर पत्रकारों के सवालों का बड़ी ही बेबाकी से जवाब दिया। उन्होंने साफ शब्दों में कांग्रेस और उसके गठबंधन को बाबासाहेब, संविधान और राम विरोधी बताया. पेश है डॉ. दिनेश शर्मा से बातचीत के प्रमुख अंश…

सरकार बनाने के लिए 273 सीटों की जरूरत है. आपने 400 पार का नारा दिया, विपक्ष का आरोप है कि आप लोग संविधान बदलना चाहते हैं?
धर्म के आधार पर आरक्षण नहीं देने की बात डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर ने संविधान में लिखी है। लेकिन कांग्रेस बार-बार मुसलमानों को आरक्षण देने की बात और प्रयास करती है तो संविधान बदलने की बात तो खुद कांग्रेस करती है। पीएम नरेंद्र मोदी ने जोर देकर कहा है कि जब तक मोदी है, किसी की हिम्मत नहीं है कि वो संविधान बदलने की सोच भी सके।  संविधान बदलने की बात कांग्रेस और उनके सहयोगियों का दुष्प्रचार है। ये लोगों को भ्रमित करने की कोशिश कर रहे हैं। राहुल गांधी सदन में विधेयक को फाड़कर दर्शा चुके हैं कि वो संविधान व संवैधानिक संस्थाओं को नहीं मानते। महाराष्ट्र में दो बार हराकर कांग्रेस पहले भी बाबासाहेब का अपमान कर चुकी है। महाविकास आघाडी, बाबासाहेब, संविधान और राम विरोधी ‘महा बिगाड़ी’ गठबंधन है। 

पीएम मोदी पर तानाशाही का आरोप?
राहुल गांधी ने दो दिन पहले भाषण में कहा था कि वे स्क्रीनिंग कराएंगे और जिनके पास ज्यादा पैसा उसकी जांच करा कर छीन लेंगे और बांटेंगे। जैसा कि कांग्रेस पहले ही स्पष्ट कर चुकी है, देश के संसाधनों पर पहला अधिकार अल्पसंख्यकों का है। आप गरीब को बांटो, लेकिन किसी से छीन कर किसी को देने वाले आप कौन हो? जो बचत लोगों को बचाने का काम  करती है, आप उस बचत को छीन लोगे? ये लोग मोदी के रूप में एक पिछड़े को पीएम के रूप में नहीं देखना चाहते हैं। ये लोग मोदी की तुलना पुतिन से कर रहे हैं लेकिन छीनने वाली सोच रूस और चीन की रही है, जिसका ये समर्थन कर रहे हैं। ये नक्सलवादी, मार्क्सवादी और हिटलर वाली सोच है। 

विपक्ष का आरोप है कि विकास की बात करने वाले मोदी अपने 10 साल के काम की बजाय हिंदू-मुस्लिम की बात करने लगे हैं?
पीएम मोदी सबको बता रहे हैं कि कितने लोगों को राशन दे रहे हैं, कितने शौचालय बने। उनका मुद्दा विकास ही है। आप कह रहे हैं कि मैं सर्वेक्षण कराउंगा, आरक्षण दूंगा। आप अपने घोषणा पत्र में अल्पसंख्यकों को अलग करके उनके सर्वे और आरक्षण, अलग से शिक्षा की बात कर रहे हैं। देश को वर्गों में, संप्रदाय में आप बांटना चाहते हैं। लेकिन ये पाकिस्तान नहीं है। 

शरद पवार ने कहा है कि हम महाराष्ट्र में 50% से ज्यादा सीटें जीतेंगे?
शरद पवार यदि बारामती की सीट भी जीत लें तो यह दुनिया का बहुत बड़ा आश्चर्य होगा। पवार के नाम पर एक सीट नहीं आएगी। कांग्रेस खाता खोलने को तरसेगी। ये चुनाव उद्धव ठाकरे के लिए सबसे बुरी खबर लाएगा। पूरे देश की बात करें तो इस बार विपक्ष के नेता की कुर्सी खाली रहेगी। महाराष्ट्र में पहला चरण देखने के बाद मैं कह सकता हूं कि सभी 48 सीटों पर जीत की ओर हम बढ़ रहे हैं। 

चुनाव प्रचार शुरू होने से पहले पीएम मोदी ने गारंटी दी कि 2045 तक भारत विकसित राष्ट्र बन जाएगा?
आप देश के विकास पर मोदी का मुकाबला करो। रक्षा क्षेत्र में शस्त्र खरीदने के बजाय, आज दुनिया को शस्त्र बेच रहे हैं। इथेनॉल के रूप में हम पेट्रोल-डीजल के विकल्प ढूंढ़ रहे हैं। चारों तरफ इन्फ्रास्ट्रक्चर ठीक होता दिखाई पड़ रहा है। सात साल में देश में हवाई अड्डों की संख्या दोगुना से ज्यादा हो गई है। यूपी में पहले 2 थे अब 20 हवाई अड्डे हो गए हैं। मेडिकल कॉलेज हर जिले में बन रहे हैं। समुद्र के नीचे टनल में सड़क बन रही है। वंदे भारत, मेट्रो- बुलेट ट्रेन शुरू हो गई है। एक्सप्रेस वे के जाल बिछ गए हैं। 

महाराष्ट्र में बीजेपी स्ट्रॉन्ग थी फिर पार्टियों को तोड़ने की जरूरत क्यों पड़ी?
बीजेपी ने किसी पार्टी को नहीं तोड़ा। शिवसेना, उद्धव के अहंकार और उनके सनातनी चोला बदलकर आंबेडकर और राम विरोधी कांग्रेसी चोला पहनने के कारण टूटी है। राकां शरद पवार के पुत्री मोह के कारण टूटी है। विधानसभा चुनाव तक उद्धव अकेले रह जाएंगे। जनता उन्हें विश्वासघात की सजा देगी। 

50 प्रतिशत वोट आपको मिलेगा, ऐसा दावा आपने किया लेकिन मत प्रतिशत घट गया है?
जितना मतदान होगा, उसका 50 फीसदी वोट हमें मिलेगा। हमारे वोटरों ने मतदान किया है। लेकिन कांग्रेस के वोटर नाराज रहे, उन्होंने मतदान नहीं किया। इसलिए हम आश्वस्त हैं।  

राज ठाकरे के साथ आने का लाभ मिलेगा?
राज ठाकरे के उत्तर भारतीय विरोधी होने की बात भूतकाल की बात हो गई है। हम वर्तमान और भविष्य की बात करते हैं। उन्होंने मोदी के विकास में विश्वास दर्शाते हुए बिना शर्त अपना समर्थन दिया है। उसका सकारात्मक प्रभाव चुनाव प्रचार के दौरान देखने को मिल रहा है।