Gyanvapi case
File Photo

    Loading

    नई दिल्ली. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) से आ रही बड़ी खबर के अनुसार, आज ज्ञानवापी परिसर (Gyanvapi Mosque) में मिले कथित शिवलिंग की पूजा-पाठ की मांग के अधिकार मामले पर सुनवाई होगी। आज इस केस की सुनवाई सिविल जज सीनियर डिवीजन फास्ट ट्रैक कोर्ट महेंद्र कुमार पांडेय की कोर्ट में रहेगी। 

    पता हो कि, अंजुमन इंतजामिया ने पोषणीयता के बिंदु पर अपनी दलील में कहा था कि, वाद में मस्जिद हटाने, मुश्लिमों का प्रवेश रोकने की बात और जमीन देने की बात कही गई है जबकि 1669 में ही मस्जिद बनने की बात हिदू पक्ष ही कह रहा है जो लगभग 350 वर्ष पुरानी है।

    उनकी यह भी दलील थी कि, ऐसे में आजादी के समय जो स्थिति थी वैसी ही रहेगी और फिर इसमें विशेष धर्म स्थल कानून लागू होगा और कंस्ट्रक्शन हटाकर देने की मांग सम्बन्धी वाद अब खारिज होने योग्य है और वाद पोषणीय नहीं है. हालाँकि अदालत में वादी पक्ष की तरफ से वाद में उठाये गए शुरुआती 55 पैरे को अंजुमन की तरफ से क्रमवार दलील पेश की,अदालत में इस पर फिलहाल दलील जारी है और सुनवाई के लिए बुधवार यानि आज की तिथि इसके लिए नियत कि गई थी।