आरोपी जावेद अहमद के घर से मिले अवैध हथियार, कई आपत्तिजनक दस्तावेज भी बरामद

    प्रयागराज: प्रयागराज हिंसा के मास्टर माइंड जावेद अहमद पर कार्रवाई करते हुए प्रशासन ने उसके घर पर बुलडोजर चला दिया है। इस दौरान पुलिस को बड़ी संख्या में अवैध हथियार और कारतूस मिले हैं। इसी के साथ कई बेहद भड़काऊ और आपत्तिजनक दस्तावेज भी जब्त किया है। इसी के साथ हिंसा के मुख्य आरोपियों में से एक टाला बड़ी मस्जिद का पेश इमाम अली अहमद को भी गिरफ्तार कर लिया है।

    एसएसपी अजय कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि, “ध्वस्तीकरण की कार्यवाही के दौरान आज पुलिस को घर से कई अवैध असलहे मिले हैं, इसमें 12 बोर और 315 बोर के तमंचे शामिल हैं। इसके साथ ही कई कारतूस भी छिपाकर रखे गए थे। पुलिस के मुताबिक आपत्तिजनक साहित्य भी घर से बरामद हुआ है। अदालतों पर टिप्पणी करने वाले बयान भी घर से मिले हैं। ध्वस्तीकरण से पहले हुई तलाशी के दौरान ये अवैध असलहे और आपत्तिजनक साहित्य बरामद हुआ है।”

    तीन जेसीबी से पांच घंटे में तोडा घर

    आरोपी जावेद के घर को प्रयागराज प्रशासन ने गिरा दिया है। सुबह 11 बजे से शुरू हुई यह कार्रवाई शाम चार बजे तक चली। जिसमें तीन जेसीबी का इस्तेमाल किया गया। जहां दो मंजिला आलीशान कोठी को पांच घंटे में जमीदोज कर दिया गया। वहीं इस दौरान किसी को तकलीफ न हो इसके लिए भारी संख्या में पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया था।

    पहले भी भेजा जा चुका है नोटिस

    अतिक्रमण को लेकर प्रयागराज प्राधिकरण ने पहले कई बार नोटिस भेजा था। जिसमें अतिक्रमण को खुद से तोड़ने को कहा था। जावेद पंप को 24 मई को सुनवाई के लिए पेश होना था, लेकिन ना ही वो पेश हुआ और ना ही उसने कोई जवाब दिया। PDA का कहना था कि जावेद पंप ने बिना अनुमति के ग्राउंड और फर्स्ट फ्लोर पर 250X60 फीट का निर्माण कराया है। जब जावेद की ओर से कोई जवाब नहीं आया तो अथॉरिटी ने 25 मई को ध्वस्तीकरण को लेकर आदेश दिया, जिसे घर के बाहर चस्पा किया गया था। इसे लेकर सूचना दी गई थी कि 9 जून तक अतिक्रमण वाला हिस्सा ध्वस्त करके अथॉरिटी को सूचना दें। लेकिन जावेद पंप की ओर से न ही अतिक्रमण वाले हिस्से को ढहाया गया और न ही कोई सूचना दी गई।

    एक अन्य आरोपी गिरफ्तार 

    पुलिस ने इस हिंसा में शामिल अन्य मास्टरमाइंड को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने टाला बड़ी मस्जिद का पेश इमाम अली अहमद को भी गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक, आरोपी शहर से भागने की फ़िराक में था, इसी दौरान उसे पकड़ा गया।