प्रयागराज: समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि प्रयागराज में अपने बाघंबरी मठ स्थित आवास पर मृत पाए गए। शाम को सूचना मिलते ही इलाके में हड़कंप मच गया। पुलिस ने सूचना मिलते ही मठ को सीज कर दिया है। जिले के आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए थे। मौके से पुलिस को एक सुसाइड नोट बरामद हुआ है जिसमें उन्होंने अपने शिष्य आनंद गिरि पर परेशान करने का आरोप लगाया है। पुलिस ने शिष्य आनंद गिरि को हिरासत में ले लिया है।

मिली जानकारी के अनुसार, अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि का शव पंखे से लटकता मिला। आशंका जताई जा रही है की यह आत्महत्या हो सकती है। लेकिन पुलिस का कहना है कि किसी भी निर्णय पर पहुंचना जल्दबाजी होगा। महंत नरेंद्र गिरी की मौत को लेकर काफी सवाल उठ रहे हैं। वहीं आनंद गिरि ने महंत नरेंद्र गिरी की हत्या एक षडयंत्र के तहत होने का आरोप लगाया है।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद होगी मामले की पुष्टि 

जांच कर रहे अधिकारियों का कहना है कि सभी बिंदुओं पर जांच की जा रही है। उनका शव पंखे से लटका मिला था। पोस्टमार्टम के बाद ही स्पष्ट होगा कि उनकी मौत कैसे हुई?

वहीं आईजी केपी सिंह ने कहा कि नरेंद्र गिरी का शव फांसी पर लटका मिला। प्रारंभिक जांच में मामला आत्महत्या का लग रहा है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही अंतिम रूप से कुछ कहा जा सकता है।

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें अनेक धाराओं को जोड़ने वाला बताया 

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्री नरेंद्र गिरि जी का देहावसान अत्यंत दुखद है। आध्यात्मिक परंपराओं के प्रति समर्पित रहते हुए उन्होंने संत समाज की अनेक धाराओं को एक साथ जोड़ने में बड़ी भूमिका निभाई। प्रभु उन्हें अपने श्री चरणों में स्थान दें। ॐ शांति!!

योगी आदित्यनाथ ने जताया दुःख 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने महंत नरेंद्र गिरि की मौत एक पुरनीय क्षति बताई है। उन्होंने लिखा ‘अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि जी का ब्रह्मलीन होना आध्यात्मिक जगत की अपूरणीय क्षति है। प्रभु श्री राम से प्रार्थना है कि दिवंगत पुण्यात्मा को अपने श्री चरणों में स्थान तथा शोकाकुल अनुयायियों को यह दुःख सहने की शक्ति प्रदान करें। ॐ शांति!’

अखिलेश यादव ने जताया दुःख 

अखिलेश यादव ने भी महंत की मौत पर दुःख जताया है।  उन्होंने लिखा,’अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष पूज्य नरेंद्र गिरी जी का निधन, अपूरणीय क्षति! ईश्वर पुण्य आत्मा को अपने श्री चरणों में स्थान व उनके अनुयायियों को यह दुख सहने की शक्ति प्रदान करें।भावभीनी श्रद्धांजलि।’