पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के उद्घाटन पर मोदी ने चलाए सियासी तीर, डबल इंजन सरकार के गिनाए फायदे

    -राजेश मिश्र

    लखनऊ: विधानसभा चुनावों के चंद महीनों पहले उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के सुल्तानपुर जिले में देश के सबसे बड़े पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे (Purvanchal Expressway) का उद्घाटन करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने विपक्ष पर जमकर सियासी तीर चलाए। विपक्ष और खासकर समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) को असफल बताते हुए जनता से इसे फिर परास्त करने को कहा। उन्होंने अपने संबोधन में डबल इंजन सरकार (Double Engine Government) के फायदे भी गिनाए। प्रदेश में मंगलवार को लखनऊ को बिहार सीमा पर गाजीपुर जिले से जोड़ने वाले 341 किलोमीटर लंबे पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के लोकार्पण के मौके पर मोदी ने कहा कि परिवारवाद ने उत्तर प्रदेश का विकास नहीं होने दिया। उन्होंने जनता से दुष्परचार करने वालों को परास्त करने की अपील भी की। पूर्ववर्ती समाजवादी पार्टी सरकार को असफल बताते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें मुख्यमंत्री योगी (Chief Minister Yogi) की सफलता नहीं पच रही है।

    समाजवादी पार्टी की पिछली सरकार पर वार करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि विकास के लिए मेरा साथ नहीं दिया गया। उन्होंने कहा पिछली सरकार में जब वो उत्तर प्रदेश आते थे तो स्वागत करने के बाद मुखिया गायब हो जाते थे क्योंकि उनके पास हिसाब देने के लिए कुछ नहीं था। मोदी ने कहा कि पहले प्रदेश में बिजली की कितनी कटौती होती थी कौन भूल सकता है और क़ानून व्यवस्था, मेडिकल सुविधा की स्थिति कैसी थी। यहां सडकों पर राह नहीं होती थी, बल्कि राहजनी होती थी पर आज राहजनी करने वाले जेल में हैं।

     यूपी का भाग्य बदलना शुरू हो चुका है  

    पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे को सुल्तानपुर जिले के कूड़ेभार में जनता को समर्पित करते हुए मोदी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में हमने लंबा दौर, ऐसी सरकारों का देखा जिन्होंने कनेक्टिविटी की चिंता किए बिना ही औद्योगीकरण के सपने दिखाए। इसका नतीजा यह हुआ कि ज़रूरी सुविधाओं के अभाव में यहां लगे अनेक कारखानों में ताले लग गए। उन्होंने कहा कि यह भी दुर्भाग्य रहा कि दिल्ली और लखनऊ, दोनों ही जगह परिवारवादियों का ही दबदबा रहा। प्रधानमंत्री ने अपरोक्ष रुप से समाजवादी पार्टी सरकार में सैफई में हुए कामों पर तंज कसते हुए कहा कि उनके लिए विकास का मतलब वही था जहां घर-परिवार रहता था, लेकिन आज जितनी पश्चिम की पूंछ है, उतनी ही पूर्वांचल के लिए भी प्राथमिकता है। पीएम मोदी ने कहा कि  ऐसे लोगों को आने वाले चुनाव में यहां के लोग परास्त कर देंगे और आपने यह करके दिखाया है। पहले 2017 में योगी जी को और मोदी जी को आपने जिताया और हमें काम करने का मौक़ा दिया है। पीएम मोदी ने कहा कि अब यूपी का भाग्य बदलना शुरू हो चुका है और आगे भी बदलने वाला है।

    पीएम मोदी ने की योगी सरकार की तारीफ

    एक्सप्रेस-वे के तेजी से हुए निर्माण के लिए योगी सरकार की तारीफ करते हुए मोदी ने कहा कि तीन साल पहले जब उन्होंने इसका शिलान्यास किया तो सोचा नहीं कि यहां खुद विमान लेकर उतरेंगे। उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया में आज जहां उत्तर प्रदेश को लेकर जिस किसी को संदेह हो वह सुल्तानपुर में आकर देख ले। प्रधानमंत्री ने कहा कि आज तक पूर्वांचल का विकास वैसा नहीं हो सका जैसा होना चाहिए था। यहाँ की पूर्व की सरकारें ने इस पर ध्यान ही नहीं दिया। एक्सप्रेस-वे पर वायुसेना के लड़ाकू विमानों की लैंडिंग का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि देश को विकास की जितनी जरूरत होता है उतनी ही सुरक्षा भी जरूरी होती है।

    पीएम ने गिनाई एक्सप्रेस-वे की खूबियां

    पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे की खूबियां गिनाते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इससे श्रमिकों और उद्यमियों दोनों को लाभ होगा। इसने निर्माण के दौरान भी हजारों नौजवानों को रोजगार दिया और अब निर्माण होने के बाद भी यह हजारों के रोजगार का कारण बनेगा। इससे पहले प्रदेश में एक से दूसरे हिस्से के जुड़ने के लिए महाभारत था। अब इस एक्सप्रेस-वे के बनने से बिहार आने जाने वालों के लिए भी सुगमता होगी। उन्होंने कहा कि  340 किमी एक्सप्रेस-वे की खासियत यह नहीं कि 5 जिलों को जोड़ेगा बल्कि लखनऊ से उन शहरों को जोड़ेगा जहां विकास की संभावना है। 

    रोजगार का साधन बनेगा पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे

    प्रधानमंत्री ने कहा कि पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर प्रदेश की सरकार ने 22000 करोड़ से ज्यादा भले ही खर्च किया हो, लेकिन उत्तर प्रदेश के लोगों के लिए यह रोजगार का साधन बनेगा। इसके दोनों किनारों पर कोल्ड स्टोरेज, भंडारण, फल सब्जी, अनाज, फार्मा, टेक्स्टाईल, हैंडलूम और पेट्रोकेमिकल से जुड़े उद्योग प्रदेश को नई ऊर्जा देने वाले हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि जहां अच्छी सड़क पहुँचती है, अच्छे हाईवे बनते हैं, वहां विकास की गति बढ़ जाती है और रोजगार के अवसर बढ़ जाते हैं।