Plastic
File Photo

    Loading

    लखनऊ: प्रमुख सचिव नगर विकास अमृत अभिजात ने बताया कि प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मंशानुरूप प्रदेश को प्रदूषण मुक्त बनाने और पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन से होने वाले दुष्प्रभावों से जनजीवन को बचाने के लिए राज्य में सिंगल यूज प्लास्टिक एवं पॉलीथीन के प्रयोग पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगाया जाएगा। इसके लिए आमजन को जागरूक करने के लिए 29 जून को प्रातः 06 बजे से लखनऊ के चटोरी गली, गोमतीनगर और गोमती नदी के किनारे पर प्रदेश स्तरीय सिंगल यूज प्लास्टिक मुक्त उत्तर प्रदेश कैम्पेन के अंतर्गत प्लॉग रन का आयोजन किया जाएगा। 

    इसमे प्रदेश के नगर विकास और ऊर्जा मंत्री ए.के. शर्मा तथा पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ. अरूण कुमार सक्सेना मुख्य अतिथि होंगे और प्रदेश के पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन राज्यमंत्री के.पी. मलिक और मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित रहेंगे। प्रमुख सचिव ने प्रदेश में सिंगल यूज प्लास्टिक के पूर्ण प्रतिबंध के लिए आम जन से प्लाग रन में प्रतिभाग करने की अपील की है।

    दुकानदारों, ठेले और खोमचे वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी 

    प्रमुख सचिव नगर विकास ने कहा कि प्रदेश के सभी नगरीय निकायों में सिंगल यूज प्लास्टिक के प्रयोग पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगाने के लिए जन जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। प्रदेश में सिंगल यूज प्लास्टिक के एकत्रीकरण, पुनर्चक्रण और इसके प्रतिबंध को प्रभावी तरीके से लागू करने के लिए की 29 जून से 3 जुलाई, 2022 तक वृहद जन जागरूकता अभियान “RACE” (Reduction, Awareness Circular (Solutions) & (Mass) Engagement) आयोजित किया जा रहा है। इस दौरान से आमजन से प्रतिबंधित प्लास्टिक और पॉलीथीन का प्रयोग न करने की अपील की जाएगी और प्रतिबंधित पॉलीथीन रखने वाले दुकानदारों, ठेले और खोमचे वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि नगरीय निकायों के अधिकारियों और कर्मचारियों को निर्देशित किया गया है कि अभियान के दौरान सिंगल यूज प्लास्टिक के प्रयोग को रोकने के लिए संबंधित विभागों के साथ मिलकर जमीनी स्तर पर कार्य करेंगे और इस पर पूर्णतया रोक के लिए पर्यावरण को संरक्षित करने की अपील भी करेंगे।

     ‘रेस फॉर प्लास्टिक फ्री उत्तर प्रदेश’ की थीम पर चलाया जाएगा अभियान

    अमृत अभिजात ने बताया कि सिंगल यूज प्लास्टिक के खिलाफ चलने वाले अभियान को ‘रेस फॉर प्लास्टिक फ्री उत्तर प्रदेश’ की थीम पर चलाया जाएगा। इसमें नगरीय निकायों के साथ जिला प्रशासन, पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन और प्रदूषण नियंत्रण के अधिकारी भी सहयोग करेंगे। साथ ही स्वयं सेवी संस्थाएं और आमजन का भी सहयोग लिया जाएगा। अभियान के दौरान लोगों को प्रोत्साहित किया जाएगा कि वे अपनी जरूरतों के लिए प्लास्टिक के स्थान पर कपड़े के बैग का इस्तेमाल करें। प्लास्टिक समानों का प्रयोग बंद कर सरकार का सहयोग करें और प्रदेश के पर्यावरण को बचाएं।

    लखनऊ में कार्यक्रम किया जाएगा आयोजित

    निदेशक नगरीय निकाय नेहा शर्मा ने आज प्रदेश के सभी नगरीय निकायों के अधिकारियों के साथ वर्चुअल मीटिंग कर निर्देशित किया है कि प्रदेश में सिंगल यूज प्लास्टिक के पूर्ण प्रतिबंध के लिए 29 जून से चलाए जा रहे वृहद जन जागरूकता अभियान रेस कार्यक्रम को सभी नगरीय निकायों में प्रभावी रूप से चलाया जाएगा। साथ ही प्लास्टिक अपशिष्ट को एकत्रित कराते हुए उसे री-साईक्लिंग कराते हुए निस्तारित कराया जाएगा। इस दौरान व्यापक स्तर पर सार्वजनिक स्थलों, बस अड्डों, रेलवे स्टेशनों, बाजार, मंडी, कार्यालय परिसरों, शैक्षिक संस्थानों, खाली प्लाटों/भूमि, नदी, तालब, घाटों, नदी, नालों और नालियों आदि स्थलों को व्यापक जन सहयोग के माध्यम से साफ-सफाई के साथ प्लास्टिक मुक्त कराने के प्रयास भी किए जाएंगे।  नेहा शर्मा ने बताया कि अभियान के दौरान 29 जून को राज्य स्तर पर लखनऊ में रेस कार्यक्रम की लांचिंग, प्लाग रन का आयोजन, स्वच्छता शपथ कार्यक्रम और प्लास्टिक एकत्रीकरण अभियान आदि कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे, वहीं नगरीय निकाय स्तर पर प्रतिबंधित प्लास्टिक और पॉलीथीन के प्रभावी रोक के लिए स्कूलों, कार्यस्थलों, आरडब्ल्यूए, पार्कों और अन्य सार्वजनिक स्थलों पर महाशपथ अभियान और जागरूकता कार्यशाला का आयोजन किया जाएगा।