Samajwadi Party announces six more candidates for Lok Sabha elections
अखिलेश यादव (File Photo)

Loading

लखनऊ:  समाजवादी पार्टी (SP) प्रवक्ता ने बृहस्पतिवार को कहा कि अवैध खनन मामले (Illegal Mining Case) में केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) द्वारा गवाही के लिए भेजे गए समन पर पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव आज दिल्ली नहीं जाएंगे। 

पार्टी प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने कहा कि अखिलेश यादव कहीं नहीं जा रहे हैं। वह लखनऊ में एक बैठक में भाग लेंगे। यादव को सीबीआई द्वारा जारी नोटिस पर उन्होंने कहा कि  मुझे इस संबंध में विस्तृत जानकारी नहीं है, लेकिन यह तय है कि वह आज दिल्ली नहीं जा रहे हैं। सपा सूत्रों के मुताबिक यादव का यहां पार्टी कार्यालय में पीडीए यानी पिछड़े, दलित और अल्पसंख्यक वर्ग की बैठक में शामिल होने का कार्यक्रम है और अब तक उनकी कहीं भी जाने की कोई योजना नहीं है।

समाजवादी पार्टी पिछड़ा वर्ग के प्रदेश अध्यक्ष राजपाल कश्यप ने एक न्यूज एजेंसी से कहा कि अखिलेश जी आज पार्टी कार्यालय में पीडीए की बैठक में शामिल होंगे।सीबीआई ने पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को ई-टेंडरिंग’ प्रक्रिया के कथित उल्लंघन के जरिए खनन पट्टी जारी करने से जुड़े एक मामले में आज तलब किया है।

अखिलेश यादव पर ये है आरोप

अखिलेश यादव पर आरोप है कि जब वह मुख्यमंत्री थे तो उनके कार्यकाल में अधिकारियों ने 2012-16 के दौरान अवैध खनन की अनुमति दी थी और खनन पर राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण द्वारा प्रतिबंध के बावजूद अवैध रूप से लाइसेंस नवीनीकृत किए गए। 

अधिकारियों ने बताया कि दंड प्रक्रिया संहिता (CrPC)) की धारा 160 के तहत जारी नोटिस में सीबीआई ने यादव को 29 फरवरी को उसके सामने पेश होने को कहा है। मामले की जानकारी रखने वाले एक वरिष्ठ अधिकारी ने न्यूज एजेंसी से कहा, वह आरोपी नहीं हैं। वह गवाह हैं।

अखिलेश यादव ने बुधवार को इस मामले को लेकर भारतीय जनता पार्टी (BJP) पर निशाना साधा था और सीबीआई के कदम को आगामी लोकसभा चुनावों से जोड़ा था। यादव ने बुधवार को एक कार्यक्रम में कहा कि सपा सबसे ज्यादा BJP के निशाने पर है। 2019 में मुझे किसी मामले में नोटिस मिला था क्योंकि उस समय लोकसभा चुनाव थे। अब जब चुनाव करीब आ रहा है तो मुझे फिर से नोटिस मिल रहा है।

बता दें कि दिल्ली शराब घोटाले मामले में पूछताछ के लिए ED सीएम अरविंद केजरीवाल को अब तक आठ बार समन भेज चुकी है, लेकिन दिल्ली सीएम केजरीवाल एक बार भी ED कार्यलय में पेश नहीं हुए।

(एजेंसी/इनपुट)