SP MP S.T. Hasan statement on repeal Assam Muslim Marriage and Divorce Registration Act , Uttar Pradesh
सपा सांसद एस टी हसन

Loading

मुरादाबाद: असम मुस्लिम विवाह और तलाक पंजीकरण अधिनियम को निरस्त करने पर सपा सांसद एस.टी. हसन ( S.T.  Hasan) का बयान आया है। उन्होंने कहा कि मुसलमान क़ुरआन के हुक्म पर चलेगा एक्ट कितने भी बनाते रहें। साथ ही उन्होंने कई सवान भी खड़े किए।

3 तलाक से और दुरुपयोग बढ़ा

सपा सांसद एस.टी. हसन ने शनिवार को उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में कहा कि क़ुरआन के हुक्म पर चलेगा एक्ट कितने भी बनाते रहें। साथ ही उन्होंने सवाल करते हुए कहा कि क्या मुसलमानों से ये कहा जाएगा कि निकाह मत करो कोई और तरीका इस्तेमाल करो। क्या हिंदुओं से कहा जाएगा कि शवों को मत जलाओ, दफन कर दो। हर धर्म के अपने रीति रिवाज हैं वे उसे हज़ारों सालों से मानते चले आ रहे हैं और मानते रहेंगे। क्या 3 तलाक खत्म हो गया? इसका और दुरुपयोग बढ़ गया।

सीएम हिमंत विश्व शर्मा ने महत्वपूर्ण कदम बताया

बता दें कि असम मंत्रिमंडल ने बाल विवाह को समाप्त करने के लिए असम मुस्लिम विवाह और तलाक पंजीकरण अधिनियम, 1935 को रद्द करने की मंजूरी दे दी है। राज्य के मुख्यमंत्री हिमंत विश्व शर्मा ने सोशल मीडिया मंच एक्स पर लिखा कि इस अधिनियम में ऐसी स्थिति में भी विवाह पंजीकरण की अनुमति दिए जाने के प्रावधान शामिल हैं, जब वर की आयु 21 वर्ष और वधु की आयु 18 वर्ष न हो, जो कि विवाह के लिए वैध आयु होती है। यह कदम यानी कानून को निरस्त किया जाना राज्य में बाल विवाह पर रोक लगाने की दिशा में एक और महत्वपूर्ण कदम है।