Chikungunya

    Loading

    लखनऊः उत्तर प्रदेश के नगर विकास एवं ऊर्जा मंत्री ए.के. शर्मा (Minister A.K. Sharma) ने सभी नगरीय निकायों के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि नगर सेवा पखवाड़ा अभियान को अपने-अपने क्षेत्रों में युद्धस्तर पर चलाएं, जिससे लोगों को अधिक से अधिक लाभ मिल सकें। उन्होंने कहा कि 1 नवम्बर से 15 नवम्बर, 2022 तक नगर सेवा पखवाड़ा अभियान पूरे प्रदेश के शहरी इलाकों में संचालित किया जा रहा हैं। इस दौरान नगरों की साफ-सफाई, संचारी रोग और डेंगू (Dengue), मलेरिया (Malaria) की रोकथाम के लिए फॉगिंग, एण्टीलार्वा का छिड़काव, जलभराव वाले स्थानों की साफ-सफाई और जल निकासी के साथ सड़कों और गलियों की मरम्मत का विशेष अभियान चलाया जा रहा हैं।

    नगर विकास मंत्री ए.के. शर्मा ने निर्देशित किया कि डेंगू और संचारी रोगों के प्रति लोगों को जागरूक किया जाए और प्रभावित इलाकों की पूरी मुस्तैदी और सर्तकता के साथ साफ-सफाई, फॉगिंग और एण्टीलार्वा का छिड़काव कराया जाए। उन्होंने कहा कि सरकार के प्रयासों से बीते वर्ष के मुकाबले इस वर्ष डेंगू के मरीज कम आए हैं। 

    टोल फ्री नं. 1533 सभी निकायों में संचालित किया गया

    प्रयागराज, अयोध्या, गोरखपुर, लखनऊ में कुछ ज्यादा ही समस्या थी, जिसे समय रहते नियंत्रित कर लिया गया है। उन्होंने कहा कि शहरों में लोगों की सुविधा के लिए टोल फ्री नं. 1533 सभी निकायों में संचालित किया गया है। जरूरत पड़ने पर इस पर अपनी समस्याएं बताएं। शीघ्र ही आपकी समस्या के समाधान का प्रयास किया जाएगा।

    अनुपयोगी वस्तुओं का घर में संग्रह करने से बचें

     ए.के. शर्मा ने लोगों से भी अनुरोध किया है कि डेंगू और संचारी रोग से बचाव के लिए जारी दिशा-निर्देशों का पालन करें। हो सके तो अपने आसपास जलभराव न होने दें। घरों में रखे गमलों, फ्रिज, एसी, पानी की टंकी की सफाई करते रहें और जल संग्रह से बचें। उन्होंने कहा कि अपने आसपास के नमी वाले स्थानों पर चूना का छिड़काव करें। अनुपयोगी वस्तुओं का घर में संग्रह करने से बचें। घर के आसपास के कूड़ा-कचरे, झाड़-झंखाड़ को भी साफ करें। उन्होंने कहा कि पार्कों और बगीचों में साफ-सफाई रखें, वहां पर घूमते समय पूरे बदन के कपड़े और जूते पहनकर जाएं। मच्छर जनित बीमारियों से बचने के लिए घर में मच्छरदानी जरूरी है और रात में सोते समय इसका प्रयोग करें। बीमार व्यक्ति को मच्छरदानी लगाकर रखें, जिससे मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया के फैलाव को रोका जा सके।