zika

    नयी दिल्ली/लखनऊ. सुबह की एक बड़ी खबर के अनुसार उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ (Lucknow) में बीते गुरुवार को जीका वायरस संक्रमण (Zika Virus) के दो मामले सामने आए हैं। जी हाँ, खुद इसकी पुष्टि महानिदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, डॉ. वेद व्रत सिंह ने भी की है।

    इधर जीका वायरस के लखनऊ में अब दस्तक देने के बाद जिले के स्वास्थ्य कर्मियों में जैसे भयंकर हड़कंप मच हुआ है। ये भी खबर है कि जिन 2 लोगों में जीका वायरस संक्रमण पाया गया है, वे हुसैनगंज और कानपुर रोड स्थित एलडीए कॉलोनी के रहने वाले बताए जा रहे हैं। बीते बुधवार को कानपुर में भी जीका वायरस के 16 और नए मरीज मिले हैं। वहीं कानपुर में अब तक जीका वायरस के 105 मरीज मिल चुके  हैं। इन 16 नए मरीजों में दो गर्भवती महिलाएं भी शामिल हैं। जो थोड़े दर की बात है। 

    वहीं, कुछ ही समय पहले उत्‍तर प्रदेश के कन्‍नौज जिले में भी जीका वायरस का एक केस रिपोर्ट हुआ था। जिस शख्‍स में इस भयंकर जीका वायरस होने की पुष्टि हुई, उसकी उम्र 45 साल है। वह कानपुर के शिवराजपुर इलाके के कासामऊ गांव में रुका हुआ था। इस मामले में कन्‍नौज के स्‍वास्‍थ्‍य विभाग ने तुरंत ही 30 सैंपल जांच के लिए भेजे थे। जिसके बाद पीडि़त की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इस मामले के सामने आने के बाद अब कन्नौज प्रशासन काफी सतर्क हो चूका है।

    आखिर जीका वायरस है क्या बला? 

    दरअसल जीका एक मच्छर से फैलने वाला भयंकर मारक वायरस है जो एडीज एजिप्टी नाम की प्रजाति के मच्छर के काटने से फैलता है। इस पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की मानें तो, एडीज मच्छर आमतौर पर दिन के दौरान ही काटते हैं। ये वही मच्छर है जो डेंगू, चिकनगुनिया फैलाता है। हालांकि, ज्यादातर लोगों के लिए जीका वायरस का संक्रमण कोई गंभीर समस्या नहीं है, लेकिन ये प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए खासतौर से भ्रूण के लिए अत्यधिक खतरनाक हो सकता है। 

    पहचानें इसके लक्षण 

    हालाँकि जीका वायरस के कुछ खास बड़े लक्षण नहीं है। इसके लक्षण भी आमतौर पर डेंगू जैसे ही मिले जुले होते हैं जैसे बुखार आना, शरीर पर चकत्ते पड़ना और जोड़ों में दर्द होना। फिलहाल उत्तरप्रदेश की योगी सरकार और स्वास्थ्य प्रशासन जीका वायरस संक्रमण को लेकर थोड़े सकते में है, लेकिन इसके रोकथाम की समुचित व्यवस्था की जा रही है।