सीएम योगी (Photo Credits-ANI Twitter)
सीएम योगी (Photo Credits-ANI Twitter)

    -राजेश मिश्र

    लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों (UP Assembly Election) के छठे चरण के मतदान में गुरुवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्याथ (Chief Minister Yogi Adityath) सहित कई मंत्रियों, पूर्व मंत्रियों और वीआईपी प्रत्याशियों (VIP Candidates) की किस्मत मतपेटियों में बंद हो जाएगी। गुरुवार को पूर्वी उत्तर प्रदेश (Eastern Uttar Pradesh) के 10 जिलों की 57 विधानसभा सीटों पर मतदान (Voting) होगा। इस चरण में जहां खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने गृह जिले गोरखपुर से प्रत्याशी हैं तो कैबिनेट मंत्री सूर्यप्रताप शाही देवरिया की पथरदेवा, जय प्रताप सिंह बांसी, जयप्रकाश निषाद रुद्रपुर, सतीशतंद्र दिवेदी इटवा, उपेंद्र तिवारी फेफना, पूर्व मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य कुशीनगर के फाजिलनगर, राजकिशोर सिंह हर्रैय्या व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू और नेता विरोधी दल रामगोविंद चौधरी बांसडीह बलिया जिले से तो पूर्व मंत्री लालजी वर्मा कटेहरी, राम अचल राजभर अकबरपुर सीट से उम्मीदवार हैं।

    इस चरण में जहां चुनाव हो रहे हैं उनमें मुख्यमंत्री योगी का जिला गोरखपुर भी शामिल है, जहां कुल नौ विधानसभा सीटें हैं। इनमें से 2017 में आठ पर बीजेपी ने जीत दर्ज की थी, जबकि एक सीट चिल्लूपार बसपा के खाते में गई थी। गोरखपुर की सभी सीटों के अलावा आसपास के जिलों में भी योगी प्रभाव है। इसी प्रभाव के चलते वह खुद यहां से चुनाव लड़ रहे हैं कि इसका फायदा दूसरी सभी सीटों पर भी बीजेपी को मिलेगा। ऐसे में यहां योगी का असर भी कसौटी पर कसा जाएगा।

    पडरौना से स्वामी प्रसाद मौर्य चुनावी मैदान में 

    वहीं, चुनाव से ठीक पहले बीजेपी को छोड़कर सपा में शामिल हुए कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य इस बार पडरौना की जगह फाजिलनगर से चुनावी मैदान में हैं। इससे पहले स्वामी 2012 और 2017 में पडरौना सीट से विधायक चुने गए। अगर फाजिलनगर सीट की बात करें तो यह सीट 2012 और 2017 में बीजेपी का कब्जा रहा है। इस बार स्वामी प्रसाद के मैदान में उतरने से यह सीट हाई प्रोफाइल हो गई है। इसके अलावा अंबेडकरनगर की तीन सीटें भी काफी महत्वपूर्ण है। कटेहरी सीट बसपा का गढ़ माना जाता है। पिछली बार इस सीट से लालजी वर्मा जीते थे, लेकिन वह इस बार सपा के टिकट पर मैदान में हैं। इसके अलावा जलालपुर सीट से सपा से राकेश पांडे, अकबरपुर सीट से रामचल राजभर की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है।

    बांसडीह सीट से राम गोविंद चौधरी उम्मीदवार

    इसी चरण में नेता प्रतिपक्ष राम गोविंद चौधरी बलिया की बांसडीह सीट से चुनाव मैदान में हैं। वहीं कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही देवरिया की पथरदेवा सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। बसपा के नेता विधानमंडल दल उमा शंकर सिंह को भी अपनी यह सीट बचाने की चुनौती होगी।

    57 सीटों पर गुरुवार को मतदान होगा

    उत्तर प्रदेश विधानसभा के छठे चरण के चुनाव में अंबेडकरनगर, बलरामपुर, सिद्धार्थनगर, बस्ती, संतकबीर नगर, महराजगंज, गोरखपुर, कुशीनगर, देवरिया और बलिया जिलों की 57 सीटों पर गुरुवार को मतदान होगा। पिछले 2017 के विधानसभा चुनाव में  इन सीटों में सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने 46, बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने 5, समाजवादी पार्टी (सपा) ने 2 सीटें जीती थी। अपना दल, सुभासपा और कांग्रेस के खाते में एक-एक सीट और एक सीट निर्दलीय को मिली थी। पिछले कई चुनावों में इस चरण में बसपा को मिलती रही सफलता के चलते उसके प्रदर्शन पर भी इस बार लोगों की निगाहें हैं।