CDS Bipin Rawat
File Pic

    लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानमंडल का शीतकालीन सत्र (UP Assembly Winter Session) बुधवार को शुरू हुआ । इस तीन दिवसीय सत्र के पहले दिन विधानसभा में सदन में पूर्व अध्यक्ष व सत्रहवीं विधानसभा के सदस्य रहे सुखदेव राजभर तथा देश के पहले प्रमुख रक्षा अध्यक्ष (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत व 11 अन्य सैन्यकर्मियों को श्रद्धांजलि दी गई। बाद में सदन की कार्यवाही बृहस्पतिवार सुबह 11 बजे तक के लिये स्थगित कर दी गयी।   

    प्रदेश विधानमंडल दल के शीतकालीन सत्र की कार्यवाही बुधवाई सुबह 11 बजे आरंभ हुई और कार्यवाही शुरू होते ही विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित के निर्देश पर नेता सदन व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सदन को विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष सुखदेव राजभर तथा तमिलनाडु के कुन्नूर के निकट हुई हेलीकाप्टर दुर्घटना में देश के पहले सीडीएस जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत और 11 अन्य सैन्य अफसरों के निधन की सूचना दी।  

    मुख्यमंत्री ने शोक संवेदनाएं व्यक्त करते हुए दिवंगतों को श्रद्धासुमन अर्पित किये । जनरल रावत को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए, मुख्यमंत्री ने कहा, “जनरल रावत मूल रूप से उत्तराखंड के निवासी थे। उन्हें 40 साल की सैन्य सेवा का समृद्ध अनुभव था। एक सीडीएस के रूप में उन्हें साहसी और उचित निर्णय लेने के लिए जाना जाता था।

    उन्होंने सशस्त्र बलों के आधुनिकीकरण में बहुत काम किया है।” मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने इस अवसर पर उप्र विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष सुखदेव राजभर को भी श्रद्धांजलि दी और कहा कि वह एक “समर्पित” जन प्रतिनिधि थे, जो अपने निर्वाचन क्षेत्र के विकास के बारे में चिंतित थे। 

    उत्तर प्रदेश विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के नेता सुखदेव राजभर का लंबी बीमारी के बाद 18 अक्टूबर को निधन हो गया था ।वह आजमगढ़ के दीदारगंज निर्वाचन क्षेत्र से विधायक थे  राजभर (70) 2007 से 2012 के बीच बसपा सरकार में उप्र विधानसभा के अध्यक्ष थे। 

    नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी, सदन में बसपा के नेता उमाशंकर सिंह, कांग्रेस विधानमंडल दल की नेता आराधना मिश्रा मोना और अपना दल के नेता हरिराम ने भी दिवंगतों को श्रद्धांजलि दी। इसके बाद विधानसभा उपाध्यक्ष नितिन अग्रवाल ने भी दिवंगतों को श्रद्धांजलि दी। (एजेंसी)