SP MP Shafiqur Rahman Burke passes away, Uttar Pradesh
समाजवादी पार्टी सांसद डॉ. शफीकुर्रहमान बर्क

Loading

संभल: समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के नेता और सांसद डॉ. शफीकुर्रहमान बर्क (Dr. Shafiqur Rahman Burke) का मंगलवार को निधन हो गया। वह लंबे समय से बीमार थे। लंबे समय से उनका इलाज भी चल रहा था। वह मुरादाबाद के एक निजी अस्पताल में भर्ती थे। उन्होंने 95  साल की उम्र में अपनी अंतिम सांस ली। वर्तमान में वह संभल से सपा सांसद थे। आगामी लोकसभा चुनाव के लिए भी सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने उन्हें संभल से अपना उम्मीदवार घोषित किया था।

समाजवादी पार्टी ने व्यक्त किया दुख

समाजवादी पार्टी ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर पोस्ट करते हुए पार्टी से कई बार के सांसद शफीकुर्रहमान के निधन पर दुख व्यक्त किया और उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की। समाजवादी पार्टी ने एक्स पर पोस्ट में लिखा- समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता, कई बार के सांसद जनाब शफीकुर्रहमान बर्क साहब का इंतकाल, अत्यंत दु:खद। उनकी आत्मा को शांति दे भगवान। शोकाकुल परिजनों को यह असीम दु:ख सहने का संबल प्राप्त हो।

1967 में उतरे थे चुनावी मैदान में

संभल सांसद डा. शफीकुर्रहमान बर्क 1967 में पहली बार संभल विधानसभा से प्रत्याशी के रूप में मैदान में उतरे और दो बार के विधायक महमूद हसन खां को बराबर की टक्कर दी थी, लेकिन इस दौरान जीत जनसंघ प्रत्याशी महेश कुमार को मिली थी। 1969 में भी उन्हें महमूद हसन खां से शिकस्त मिली। 1974 के विधानसभा चुनाव में डा. बर्क की मेहनत रंग लाई और वह संभल से विधायक बने। इसके बाद लगातार दूसरी बार भी डा. बर्क को विजय मिली।

1995 में थामा था सपा का हाथ 

 डा. शफीकुर्रहमान बर्क ने साल 1995 में समाजवादी पार्टी का दामन थाम लिया तो पार्टी ने उन पर विश्वास जताया और 1996 में मुरादाबाद लोकसभा से प्रत्याशी के रूप में मैदान में उतारा। जहां पहली बार में ही उन्होंने जीत हासिल की। यहां से लगातार दे बार जीत के बाद उन्हें दो बार हार का भी सामना करना पड़ा।

साफ सुथरी छवि के थे नेता

2009 में संभल लोकसभा से प्रत्याशी के रूप में चुनावी मैदान में उतरे, लेकिन इस बार वह सपा से नहीं बल्कि बहुजन समाज पार्टी से लोकसभा प्रत्याशी के रूप में थे और उन्होंने संभल सीट पर जीत भी हासिल की। वर्तमान में वह समाजवादी पार्टी से संभल लोकसभा सांसद थे। राजनीति में सांसद डा. शफीकुर्रहमान बर्क की अपनी अलग साफ सुथरी छवि थी।