5-Ways-to-Break-Your-Addiction-to-Your-Mobile-Phone
File Photo

Loading

दिल्ली: एंड्रॉयड’ का ‘दाम’ नामक

में की गई पुरानी गतिविधियों और कैमरा जैसे संवेदनशील डेटा को हैक कर लेता है। राष्ट्रीय साइबर सुरक्षा एजेंसी ने अपने परामर्श में यह जानकारी दी है। भारतीय कंप्यूटर आपातकालीन प्रतिक्रिया दल’ या ‘सीईआरटी-इन’ ने बताया कि यह वायरस ‘‘वायरस रोधी कार्यक्रमों से बच निकलने और लक्षित उपकरणों में रैनसमवेयर का हमला करने में समक्ष है। यह एजेंसी फिशिंग एवं हैकिंग समेत ऑनलाइन हमलों से साइबर क्षेत्र की सुरक्षा करने वाली संघीय प्रौद्योगिकी शाखा है।

सुरक्षा जांच से बच निकलने की कोशिश 

एजेंसी ने कहा कि एंड्रॉयड बॉटनेट तीसरे पक्ष की वेबसाइटों या अविश्वसनीय/अज्ञात स्रोतों से डाउनलोड किए गए ऐप्लिकेशन के माध्यम से वितरित किया जाता है। रामर्श में कहा गया है कि उपकरण में पहुंच जाने पर मालवेयर उपकरण की सुरक्षा जांच से बच निकलने की कोशिश करता है और इसमें सफल हो जाने के बाद वह संवेदनशील डेटा चुराने, मोबाइल में की गई गतिविधियों को जानने और कॉल रिकॉर्ड जानने इत्यादि की अनुमति लेने की कोशिश करता है। इसमें कहा गया है कि ‘दाम’ फोन कॉल रिकॉर्ड करने, संपर्क सूची को हैक करने, कैमरे तक पहुंच बनाने, उपकरण के पासवर्ड में बदलाव करने, स्क्रीनशॉट लेने, एसएमएस चुराने, फाइल को डाउनलोडन/अपलोड करने इत्यादि में सक्षम है।

एजेंसी ने अविश्वसनीय वेबसाइट में जाने और ‘अविश्वनीय लिंक’ पर क्लिक करने से बचने की सलाह दी है। उसने ‘एंटी-वायरस’ और ‘एंटी-स्पाईवेयर’ सॉफ्टवेयर डाउनलोड न करने और ‘‘संदिग्ध संख्या” वाले फोन नंबर से आने वाले संदेशों को लेकर सतर्क रहने का परामर्श दिया है। (एजेंसी)