आज से होगा दिन और रात का समय एक बराबर, जानें इक्वीनॉक्स से जुडी अहम बातें

    नई दिल्ली : विषुव (Equinox) यह सौरमंडल की एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है जो इस साल 23 सितंबर 2021 को होने वाली है। ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक, ‘सूर्य ग्रह’ की भूमिका मौसम के परिवर्तन में बेहद महत्वपूर्ण मानी जाती है। आपको बता दें कि सूर्य को सभी ग्रहों का राजा कहा जाता है। विज्ञान की माने तो, सौरमंडल में सूर्य अपने निर्धारित कक्ष में चक्कर लगाता है। सूर्य की दिशा उत्तर से दक्षिण रहती है। 23 सितंबर होने वाली सौरमंडल की अहम प्रक्रिया विषुव (Equinox) के बारे जानते है अधिक जानकारी…. 

    दिन और रात का समय बराबर 

    पृथ्वी अपनी धुरी पर 23.5 डिग्री झुकी हुई है और सूर्य के चक्कर लगा रही है। इस वजह से 21 मार्च और 23 सितंबर को पृथ्वी की भूमध्य रेखा बिलकुल सूर्य के सामने पड़ती है। इसी कारण से दिन और रात का समय बराबर हो जाता है। इस कारण आज यानी 23 सितंबर 2021 गुरुवार को विषुव (Equinox) की स्थिति बन रही है। इक्वीनोक्स यह शब्द लैटिन भाषा का है। जिसे अर्थ यह बतया है की ”समान रात” है। हिंदी भाषा में इसे विषुव कहां जाता है। इस विषुव भाषा को संस्कृत भाषा से लिया गया है। 

    आरंभ होगा गर्मी और सर्दी का मौसम 

    ऐसी मान्यता है कि 21 मार्च जब विषुव यानी Equinox की स्थिति बनती है तो गर्मी की शुरुवात होती है। जब ये स्तिथि 22 सितंबर को बनती है तो शर्दी यानि शरद ऋतु के आरंभ होने का संकेत होता है। इस दिन, दिन और रात दोनों बराबर होते है, और 23 सितंबर से दिन छोटा और रात बड़ी होने लगती है। 

    जानें 23 सितंबर 2021 का पंचांग

    पंचांग के अनुसार 23 सितंबर 2021, गुरुवार को आश्विन मास की कृष्ण पक्ष की द्वितीया तिथि है। इस दिन चंद्रमा मीन राशि में गोचर कर रहा है। गुरुवार को रेवती नक्षत्र रहेगा। कन्या राशि में सूर्य विराजमान रहेंगे।