Vaccination
File Photo

    ठाणे. ठाणे शहर (Thane City) में 1 लाख 24 हजार 827 लोगों को टीका (Vaccination) लगाया गया है। मनपा कमिश्नर डॉ विपिन शर्मा (Commissioner Dr. Vipin Sharma) ने यह जानकारी दी है। पहले चरण में कोरोना मरीजों (Corona Patients) का उपचार करने वाले स्वास्थ्यकर्मियों,दूसरे चरण में फ्रंटलाइन वर्कर और वर्तमान में वरिष्ठ नागरिकों और 45 वर्ष से अधिक जो अन्य बीमारी से ग्रसित है उन्हें टीका दिया जा रहा है।  1 लाख 24 हजार 827 लोगों में से 1 लाख 2 हजार 884 लोगों ने मनपा के केंद्रों पर और 21 हजार 943 लोगों ने निजी अस्पताल में टीका लिया है। इसमें 59 हजार 892 लोग 60 वर्ष की आयु के ऊपर , 55 हजार 118 स्वास्थ्य कर्मी और फ्रंट लाइनवर्कर  तथा 9 हजार 817 लोग 45 से 60 वर्ष की आयु के हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार के गाइडलाइन के अनुसार ही विभिन्न चरणों में टीकाकरण किया जा रहा है। 

    गौरतलब है कि ठाणे शहर में कोरोना का प्रकोप बढ़ रहा है। ऐसे में यहां को-वैक्सीन टीके का स्टॉक लगभग समाप्त हो गया है। इसके चलते शहर में लगभग 10 हजार नागरिकों का दैनिक टीकाकरण आधा हो गया है। टीकाकरण केंद्रों की संख्या को कम किए जाने के चलते भी मुहिम पर असर पड़ा है। जानकारी के अनुसार शहर में जहां पहले 51 केंद्रों पर टीकाकरण चल रहा था। वहीं कुल 34 केंद्रों पर ही लोगों को टीका लगाया जा रहा था।  शहर में कुल 17 केंद्रों को बंद कर दिया गया। कहा गया है कि को वैक्सीन के टीके के स्टॉक में जितनी देर होगी, टीकाकरण की प्रक्रिया उतनी ही धीमी होगी।

    खत्म हो रहा है स्वदेशी को-वैक्सीन का स्टॉक  

    आत्मनिर्भर भारत योजना की सूची में शामिल स्वदेशी को-वैक्सीन का स्टॉक समाप्त होने के कगार पर पहुंच गया है। ऐसे में मनपा के सामने टीकाकरण मुहिम को रोकने के सिवा कोई विकल्प नहीं दिखाई दे रहा है। बताया गया है कि कोविशिल्ड टीके का 63 हजार खुराक शेष बचा हुआ है, जिसमें पहली खुराक ले चुके लाभार्थियों को इसकी दूसरी खुराक देने की प्रक्रिया शुरू है। कोविशिल्ड का स्टॉक भी इतना है कि उसे केवल आठ दिनों तक चलाया जा सकता है। ऐसे में मनपा के सामने समस्या यह पैदा हो गई है कि पहली खुराक लेने वाले लाभार्थियों को दूसरी खुराक कौन सी वैक्सीन का दिया जाए।  मनपा की सीमा में हर दिन आठ से दस हजार नागरिकों का टीकाकरण किया जाता है। वहीं स्वास्थ्य विभाग ने कहा है कि शहर में टीकों की कमी के कारण 17 केंद्र बंद कर दिए गए हैं। 

    स्थाई समिति सभापति और महापौर कर चुके है स्टॉक उपलब्धता की मांग 

    इस बीच को-वैक्सीन का स्टॉक समाप्त होने के बाद इस बात पर संदेह पैदा हो गया था कि क्या अब टीकाकरण को बंद करना होगा। हालांकि, 63 हजार टीकों के शेष स्टॉक का उपयोग करने के निर्देश दिए गए हैं। ठाणे में फिर से कोविशिल्ड वैक्सीन दी जाने लगी है, जिसे उन लोगों के लिए भंडारित किया गया था जिन्हें कोविशील्ड का पहला टीका दिया गया था। अब उसी स्टॉक का उपयोग करके टीकाकरण किया जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक अब इस बात पर संदेह होने लगा है कि कोविशिल्ड की पहली खुराक लेने वाले लोगों को वैक्सीन की दूसरी खुराक कैसे मिलेगी। पता हो की पिछले दिनों हुई ठाणे मनपा कि स्थाई समिति की बैठक में शहर में टीके की कमी का मुद्दा गूंजा था। जिसके बाद सभापति संजय भोईर ने मनपा स्वास्थ्य विभाग को टीके के भण्डारण का निर्देश दिया था। महापौर नरेश म्हस्के ने प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर वैक्सीन को उपलब्ध कराने की मांग की थी।