File Photo
File Photo

    बदलापुर. कुलगांव-बदलापुर नगरपालिका क्षेत्र में कोरोना (Corona) की दूसरी लहर (Second Wave) का असर अब काफी कम हो गया है। कोरोना मरीजों (Corona Patients) की संख्या में आ रही कमी से अब निजी क्षेत्र के अस्पतालों के साथ ही नगरपालिका की देखरेख में बने कोविड सेंटर और अस्पतालों के बेड खाली है इसलिए स्थानीय नगरपालिका प्रशासन ने अनावश्यक स्वास्थ्य कर्मियों की सेवाओं को समाप्त करने का फैसला लिया है।

    प्राप्त जानकारी के अनुसार, नगरपालिका के माध्यम से कोविड अस्पतालों और कोविड सेंटरों के लिए कॉन्ट्रैक्ट पद्धति से डॉक्टर, नर्सों व अन्य टेक्निकल स्टॉफ की भर्ती की थी। इसलिए जो भर्ती की गई है उनमें से अब तक 123 स्वास्थ्य कर्मचारियों की सेवा समाप्त कर दी है।

    कम हो रही मरीजों की संख्या

    वहीं नगरपालिका प्रशासन ने यह भी व्यवस्था की है कि यदि कोरोना का प्रादुर्भाव भविष्य में बढ़ता है तो स्वास्थ्य सेवक के रूप में डॉक्टरों और स्वास्थ्य कर्मियों को बुलाया जाएगा। तैयारी के रूप में नगरपालिका ने इनके साक्षात्कार भी ले लिए है। बदलापुर शहर में कोरोना की दूसरी लहर में 20 हजार 721 कोरोना पॉजिटिव  मरीज पाए गए है रविवार यानी 6 जून को सिर्फ 20 मरीज मिले।  शहर में रिकवरी रेट भी बढ़कर 97.36 फीसदी हो गया है। शहर में अब तक 254 मरीजों की कोरोना से मौत हो चुकी है। नतीजतन, शहर की मृत्यु दर घटकर 1।22 प्रतिशत हो गई है। उपचार प्राप्त करने वाले रोगियों की संख्या में पिछले एक महीने में काफ़ी  गिरावट आई है।  शहर वर्तमान में 291 रोगियों का इलाज करता है, जिनमें से 66 घरेलू अलगाव में है। इनमें 20 मरीजों का इलाज शहर के बाहर के अस्पतालों में चल रहा है।  इसके चलते शहर के 9 अस्पतालों में सिर्फ 205 मरीजों का ही इलाज हो रहा है। हालांकि गौरी हॉल और जानवी हॉल की क्षमता क्रमश: 250 और 52 है, इसमें क्रमश: 108 और 13 मरीजों का इलाज चल रहा है।  

    उनकी सेवा बंद कर दी गई

    पेंडुलकर हॉल कोविड अस्पताल एवं  रेनी रिसोर्ट के कोविड अस्पताल को बंद करने का समय आ गया है। इस वजह से कुलगांव-बदलापुर नगरपालिका प्रशासन ने कोविड अस्पतालों में काम करने वाले स्वास्थ्य कर्मियों की सेवाओं को समाप्त करने का फैसला लिया है। इसमें कई डॉक्टर, नर्स, हेल्पर और स्वास्थ्यकर्मी शामिल है। इन कर्मचारियों ने 31 मई को आखिरी दिन काम किया था अब उनकी सेवा बंद कर दी गई है।

    मरीजों की संख्या कम होने पर स्वास्थ्यकर्मियों की संख्या कम करने का निर्णय लिया गया है। हालांकि मरीजों की संख्या बढ़ने पर स्वास्थ्य कर्मियों की नियुक्ति की जाएगी। कई डॉक्टरों, नर्सों और स्वास्थ्य कर्मियों का साक्षात्कार लिया गया है, जब भी जरूरत होगी उन्हें बुलाया जाएगा।

    -दीपक पुजारी, मुख्याधिकारी, कुलगांव-बदलापुर नगरपालिका